उज्ज्वला योजना वाले सिलिंडर को इतने लाख लोग दोबारा नहीं भरवा पाए…RTI से हुवा खुलासा

उज्ज्वला योजना वाले सिलिंडर को इतने लाख लोग दोबारा नहीं भरवा पाए…RTI से हुवा खुलासा
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की उज्ज्वला योजना (PM Ujjwala Yojana). 2016 में यूपी के बलिया से शुरूआत हुई. कई गरीब परिवारों को करोड़ों गैस कनेक्शन (LPG Gas Connection) दिए गए. गैस से भरे सिलिंडर दिए गए, लेकिन अब वो सिलिंडर बिना गैस के रसोई में पड़े हैं. द हिंदू की एक रिपोर्ट के मुताबिक फायनेंशियल ईयर 2021-22 में उज्ज्वला योजना के 90 लाख लाभार्थियों ने कभी दोबारा सिलिंडर भरवाया ही नहीं. वहीं लगभग 1 करोड़ लोगों ने अपना सिलिंडर सिर्फ एक बार भरवाया.

उज्ज्वला योजना (ujjwala yojana) का मकसद था मार्च 2020 तक 8 करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन देना. अब तक इस योजना के तहत 9 करोड़ कनेक्शन दिए भी जा चुके हैं. वित्त वर्ष 2021-22 में तो उज्ज्वला योजना का दूसरा वर्जन भी लॉन्च हो गया. लेकिन अब भी लाखों घरों में सिलिंडर खाली पड़े हैं.

ये भी पढ़ें -: सलमान ने की ‘धाकड़’ फ़िल्म की तारीफ तो कंगना बोलीं- थैंक्स मेरे दबंग हीरो, अब नहीं कहूंगी कि…

द हिंदू के मुताबिक ये जानकारी तेल मार्केटिंग कंपनियों से आरटीआई के जरिए हासिल की गई है. पिछले दिनों आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौर ने इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन से ये जानकारी मांगी थी. इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन ने अपने जवाब में कहा है कि मार्च 2021 तक उन्होंने जो भी कनेक्शन दिए थे, उनमें से 65 लाख उपभोक्ताओं ने वित्त वर्ष 2021-22 में अपने सिलिंडर वापस नहीं भरवाए. वहीं, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के 9.1 लाख और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के 15.96 लाख उपभोक्ताओं ने अपने सिलिंडर नहीं भरवाए.

वहीं, वो लोग जिन्होंने केवल एक बार सिलिंडर रिफिल करवाया उनकी संख्या इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन में 52 लाख, हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन में 27.58 लाख और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन में 28.56 लाख थी. मार्च में लोकसभा में पेश सरकार के आंकड़ों के मुताबिक उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी की खपत सालाना 3.66 रिफिल प्रति कनेक्शन रही.

ये भी पढ़ें -: कश्मीरी पंडितों के समर्थन में बडगाम जाना चाहती थीं महबूबा मुफ्ती, हुवी हाउस अरेस्ट

ऐसा भी नहीं है कि सरकार ने एक बार कनेक्शन दिया और हाथ झाड़ लिए. महामारी के दौरान लगभग अप्रैल 2020 से लेकर दिसंबर 2020 तक योजना के तहत तीन बार फ़्री में ये सिलिंडर भरवाए गए थे. केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में बताया था कि लगभग 14.17 करोड़ लाभार्थियों ने उस दौरान फ़्री में सिलेंडर भरवाए थे.

बता दें उज्ज्वला योजना के तहत सरकार लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में गैस खरीदने के लिए पैसे ट्रांसफर करती है. पहली सिलिंडर की किश्त खाते में जाने के 15 दिन बाद दूसरी सिलिंडर की किश्त भी लाभार्थी को भेज दी जाती है. हालांकि, उज्ज्वला योजना में गड़बड़ी भी उजागर हुई है. दैनिक भास्कर की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक सब्सिडी के रुपए का फायदा एजेंसी के लोग हड़प रहे हैं. आपूर्ति विभाग से लेकर प्रशासकीय अधिकारियों तक ऐसी शिकायतें पहुंच रही हैं और महिलाएं अभी भी चूल्हे पर ही खाना बनाने को मजबूर हो रही हैं. रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी भी इसकी बड़ी वजह मानी जा रही है.

ये भी पढ़ें -: कश्मीरी पंडित की अंतिम यात्रा में पहुंचे BJP नेताओं का विरोध, लोगों ने कही ये बात…

ये भी पढ़ें -: ज्ञानवापी मस्जिद के बाद अब मथुरा ईदगाह पर कोर्ट में दाखिल हुई याचिका, जानें पूरा मामला

ये भी पढ़ें -: PM मोदी बोले- राजनीति नहीं सेवा के लिए आया हूं, लोग चुटकी लेते हुवे करने लगे ऐसी बातें…

सोर्स – thelallantop.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-