Politics

5 दिन में ही धंस गई बुंदेलखंड एक्‍सप्रेस वे की सड़क, मोदी-योगी ने किया था शुभारंभ

20220721 183941 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 16 जुलाई को जालौन के कैथेरी गांव से पूरे देश को बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे (Bundelkhand Expressway) की सौगात दी थी। अपने शुभारंभ के पहले हफ्ते में ही एक्सप्रेसवे की सड़क धंस गई है। सड़क पर करीब दो फीट गहरा गड्ढा हो गया, जिसमें बुधवार को एक कार फंसकर क्षतिग्रस्त हो गई। क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत के लिए जेसीबी मशीन पहुंची है। इस घटना से हड़कंप मचने के बाद अधिकारियों ने जांच के आदेश दे दिए हैं।

सोशल मीडिया पर लोग एक्‍सप्रेस वे की गुणवत्‍ता पर भी सवाल उठा रहे हैं। दरअसल, उद्धघाटन के 5 दिन बाद जालौन तहसील क्षेत्र के छिरिया सलेमपुर के पास बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की सड़क धंस गई। पिछले 5 दिनों में इस एक्सप्रेस-वे पर 4 मौतें भी हो चुकी है। वहीं, बुधवार रात एक कार और बाइक भी दुर्घटनाग्रस्त हुई है।

ये भी पढ़ें -: ‘गब्बर’ की रेसिपी: कम बनाओ, कम खाओ और जुमलों के तड़के से भूख मिटाओ- राहुल का PM मोदी पर तंज

इसका वीडियो बनाकर लोगों ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इसके बाद यूपीडा के अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया और जालौन डीएम ने यूपीडा के अधिकारी को जानकारी देते हुए जांच के आदेश भी दिए हैं।

देर रात एक्सप्रेस-वे की सड़क धंसने के बाद सोशल मीडिया पर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया। इसके बाद तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आने लगीं। लोगों का कहना है कि सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन खुद देश के प्रधानमंत्री ने किया लेकिन करोड़ों रुपए भी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए। इससे यह साफ जाहिर होता है कि एक्सप्रेस-वे में मानक विहीन व घटिया क्वालिटी के सामान का प्रयोग किया गया है।

ये भी पढ़ें -: एम्स के प्राइवेट वार्ड में 5% GST का आदेश जारी, अब डेली चार्ज 6300 रुपये हुवा

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे मात्र 28 महीने में बनकर तैयार हुआ है। यूपी सरकार के मुताबिक, कार्यदायी संस्था ने समय से पहले काम पूरा होने पर सरकार के करीब 1132 करोड़ भी बचाए हैं। अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी खुद इसकी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे थे।

लेकिन बीती रात बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की सड़क धंस जाने के बाद अधिकारी परेशान दिखाई दिए। क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत के लिए जेसीबी मशीन पहुंचाई गई। वहीं, डीएम चांदनी सिंह ने बताया कि यूपीडा के अधिकारी को इसकी जानकारी दे दी गई है। मामले की जांच करा रहे हैं।

ये भी पढ़ें -: सिद्धू मूसेवाला के परिवार ने कुछ महीनों के लिए छोड़ दिया गांव, जानें वजह…

ये भी पढ़ें -: BJP कार्यालय पहुंचते ही बदले मंत्री रामसूरत राय के सुर, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के बारे में कही ये बात


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-