India

स्कूल की बदहाली पर 12 साल के बच्चे की ऐसी रिपोर्टिंग कि वायरल हो गया वीडियो, देखें

20220805 085149 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

झारखंड के गोड्डा जिले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वीडियो 12 साल के एक बच्चे सरफराज का है. वो लकड़ी को माइक बनाकर ‘रिपोर्टर’ बन गया. फिर रिपोर्टिंग करते हुए एक सरकारी स्कूल की खामियां गिनाने लगा. ये स्कूल जिले के महगामा ब्लॉक के भिखियाचक गांव में है. सरफराज ने एक लकड़ी में प्लास्टिक की बोतल लगाकर एक वीडियो बनाया, जिसमें वह स्कूल में घूम-घूमकर दिक्कतों को बता रहा है. वीडियो में स्कूल परिसर में हर जगह गंदगी दिख रही है. यहां तक कि क्लासरूम में भी गंदगी का अंबार दिख रहा है. रिपोर्टिंग में इन समस्याओं को हाइलाइट करते हुए सरफराज कहता है, “मेरा नाम सरफराज खान है. आपको बता रहा हूं कि मैं उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय भिखियाचक में पहुंचा हूं. जैसा कि मैं बता रहा हूं कि स्कूल खुल गया है. (शिक्षक) घर में सो गया है सिर्फ हाजिरी बनाने आता है. एक भी बच्चा नजर नहीं आ रहा है. ना सफाई की व्यवस्था है और ना पानी की व्यवस्था है.

रिपोर्ट करते हुए एक दूसरे बच्चे से सरफराज पूछता है कि छात्र स्कूल में पढ़ने क्यों नहीं आते हैं. इस पर वो बच्चा जवाब देता है कि स्कूल में कोई पढ़ाता ही नहीं है. वो कहता है कि पानी लेने के लिए भी बहुत दूर जाना पड़ता है. एक और बच्चा सरफराज को कहता है कि यहां ना पढ़ाई होती है और ना ही शौचालय और पानी की व्यवस्था है.

ये भी पढ़ें -: बाबा रामदेव बोले- मेडिकल साइंस ने 50 साल से पूरी दुनिया में मचा रखी है तबाही, हुवे ट्रोल…

इसके बाद सरफराज स्कूल के दूसरे हिस्सों में जाता है. वो वीडियो बनाते हुए शौचालय की तरफ जाता है. फिर सरकार पर सवाल उठाते हुए कहता है कि ये कैसी व्यवस्था है, स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है लेकिन सरकार क्या कर रही है? कैंपस में घनी घास को दिखाते हुए वो कहता है कि देखिए कि स्कूल में जंगल है. सरफराज का आरोप है कि टीचर स्कूल में हाजिरी बनाकर चले जाते हैं. वो आगे सरकार से निवेदन करते हुए कहता है, “इस स्कूल की व्यवस्था ठीक करें. स्कूल के लिए पैसे आते हैं लेकिन रिपेयरिंग नहीं करवाई जाती है. अभी पौने एक बज रहा है लेकिन देखिए कि एक भी टीचर नहीं है.

सरफराज छठी क्लास में पढ़ाई करता है. सरफराज ने झारखंड के शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो से अपील की है कि स्कूल की कमियों को वो दूर करें. क्विंट हिंदी की रिपोर्ट के मुताबिक वीडियो बनाने के बाद उसे स्कूल के टीचर से धमकी भी मिली है. सरफराज ने बताया कि टीचर ने उसकी मां को आकर बोला कि अपने बेटे को सुधार लो नहीं तो थाने में शिकायत हो जाएगी. सरफराज के वीडियो वायरल होने के बाद महगामा के BDO प्रवीण चौधरी ने क्विंट को बताया, “हम जब गए तो हमने देखा कि वीडियो में जो भी समस्याएं दिखाई गई हैं, इन पर लीपापोती करने की कोशिश की गई थी. मामले की विस्तृत जांच कर कलेक्टर को रिपोर्ट भेजी गई है और शिक्षकों पर कार्रवाई करने के लिए भी लिखा गया है.

ये भी पढ़ें -: संसद में वित्त मंत्री बोली- नहीं कमजोर हो रहा भारतीय रुपया, लोग करने लगे ऐसे कमेंट…

सरफराज ने बताया कि वह पत्रकार बनना चाहता है. उसने कहा, “मैंने स्कूल का और तार के पेड़ से बने पुल का भी वीडियो बनाया है. मैं पढ़ना चाहता हूं. गांव का भला करना चाहता हूं. वहीं सरफराज का वीडियो वायरल होने के बाद एक ग्रामीण ने बताया, “समस्या ये है कि यहां अच्छी शिक्षा मिलती नहीं है. हमारे गांव के बच्चे बाहर पढ़ने जाते हैं. इस स्कूल में मध्याह्न भोजन (मिड डे मील) जो लिखा है वो नहीं मिलता है. बाथरूम (शौचालय) भी सही नहीं है. क्लासरूम में टीचर ने गाय के खाने का सामान रखा हुआ है. बहुत दिनों से ऐसा ही चल रहा है.

धमकी देने के आरोपों पर एक टीचर ने बताया कि ये बात झूठी है. उन्होंने कहा कि सरफराज को सिखाया-पढ़ाया जा रहा है. हालांकि वीडियो में दिखाई गई समस्याओं से उन्होंने इनकार नहीं किया. गोड्डा बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे का लोकसभा क्षेत्र है. आजतक से जुड़े संतोष भगत के मुताबिक इस गांव की आबादी 5 हजार की है. वीडियो वायरल होने के बाद स्कूल में पत्रकार पहुंचने लगे तो वहां छात्रों को लाकर बिठाया जाने लगा.

ये भी पढ़ें -: रवीश कुमार बोले- मोहन भागवत जी, तिरंगा लेकर हाज़िर हों, मीडिया और विपक्ष खोज रहा है

ये भी पढ़ें -: क्या महाराष्ट्र में फिर फंस गया है पेच? फडणवीस हुवे दिल्ली रवाना और शिंदे ने रद्द कीं सारी बैठकें


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-