Politics

सुप्रीम कोर्ट से फटकार के बाद नूपुर शर्मा ने वापस ली अर्जी

nupur sharma qatar Maldives Jordan Indonesia
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

सुप्रीम कोर्ट से फटकार के बाद भारतीय जनता पार्टी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने याचिका वापस लेने का फैसला किया है। खबर है कि अब वह दिल्ली हाईकोर्ट का रुख कर सकती हैं। सुप्रीम कोर्ट ने शर्मा के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया था। कोर्ट ने शर्मा को फटकार लगाई और कहा कि आपके बयानों से अशांति फैली है। साथ ही अदालत ने उन्होंने राहत देने से इनकार कर दिया था और मामले को उच्च न्यायालय में ले जाने के लिए कहा था। शर्मा ने याचिका दायर कर अपने खिलाफ अलग-अलग राज्यों में दर्ज FIR को दिल्ली स्थानांतरित करने की मांग की थी।

जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस जेबी पारदीवाला ने देर से माफी मांगने की बात कही थई। कोर्ट ने कहा कि शर्मा ने बयान के खिलाफ लोगों के आक्रोश के खिलाफ ‘सशर्त माफी’ मांगी थी। कोर्ट ने उन्हें भड़काऊ टिप्पणी को लेकर टीवी पर जाकर माफी मांगने के लिए कहा है। कोर्ट ने कहा, ‘उन्हें टीवी पर जाकर देश से माफी मांगनी चाहिए थी… उन्होंने देरी की… और उसके बाद भी शर्तों के साथ यह कहते हुए बयान वापस लिया कि अगर भावनाएं आहत हुई हैं तो।

ये भी पढ़ें -: उदयपुर हत्याकांड पर आरिफ मोहम्मद खान ने दिया बड़ा बयान, पढ़ें विस्तार से…

27 मई को ज्ञानवापी मस्जिद मामले को लेकर चल रही डिबेट के दौरान शर्मा ने टिप्पणी की थी। शुक्रवार को अदालत ने कहा कि चैनल के पास ‘एजेंडा का प्रचार’ करने के जाए इस मामले पर चर्चा करने का क्या काम था। अदालत ने यह भी कहा कि अगर शर्मा डिबेट के कथित गलत इस्तेमाल से परेशान थीं, तो उन्हें एंकर के खिलाफ FIR दर्ज करनी चाहिए थी।

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की जांच पर भी सवाल उठाए हैं। कोर्ट ने पूछा है कि मामले में अब तक क्या कार्रवाई हुई है। साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि पुलिस ने रेड कार्पेट बिछा रखा है। शीर्ष अदालत ने शर्मा के वकील को मामले को लेकर हाई कोर्ट जाने की सलाह दी है। कोर्ट ने उदयपुर में हुई घटना का जिम्मेदार भी शर्मा के बयानों को बताया है। कोर्ट ने कहा कि उनकी बयान ने पूरे देश में आग लगाई। कोर्ट ने कहा है कि उन्होंने राष्ट्र की सुरक्षा को खतरा पहुंचाया है। कहा गया कि उनके चलते पूरे देश में ही अशांति हो गई है। शर्मा की तरफ से कोर्ट में पेश हुए वरिष्ठ वकील मनिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने अपने बयानों के लिए माफी मांग ली है और उन्हें वापस भी ले लिया है। कोर्ट ने उकसाने वालों के खिलाफ भी FIR दर्ज किए जाने की बात कही है।

ये भी पढ़ें -: जिस ट्विटर हैंडल की पोस्ट पर जुबैर की गिरफ्तारी हुई वो ट्विटर से हुवा गायब

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, शर्मा अपने खिलाफ दर्ज कई राज्यों में दर्ज FIR को दिल्ली ट्रांसफर कराना चाहती हैं। उन्होंने इस मांग के साथ शीर्ष न्यायालय में याचिका दायर की है। इस दौरान भाजपा की पूर्व प्रवक्ता ने जानकारी दी कि उन्हें लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। पैगंबर पर विवादित टिप्पणी के चलते देश के कई हिस्सों में जमकर हंगामा हुआ था।

अब तक नहीं थमा तनाव
28 जून को राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल तेली नाम के टेलर की दो युवकों ने निर्मम हत्या कर दी थी। जांच में सामने आया था कि नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट के चलते आरोपियों रियाज और मोहम्मद गौस ने दर्जी की जान ली थी। इतना ही नहीं उन्होंने इस पूरी वारदात का वीडियो भी बनाया था और बाद में एक अन्य वीडियो जारी कर कत्ल की जिम्मेदारी भी ली थी। हालांकि, दोनों हत्यारों को पुलिस ने राजसमंद से गिरफ्तार कर लिया था।

ये भी पढ़ें -: कन्हैयालाल पर हमले के वक्त भाग गए थे लोग, अकेले ईश्वर सिंह हमलावरों से भिड़े

ये भी पढ़ें -: CM पद के लिए एकनाथ शिंदे के नाम की घोषणा के बाद शरद पवार ने दी पहली प्रतिक्रिया, जानें क्या कहा?


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-