India

सुप्रीम कोर्ट के दो जस्टिसों ने अपने ही सिस्टम पर उठाए सवाल, पढ़ें विस्तार से…

20220916 124306 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

सुप्रीम कोर्ट के दो जस्टिसों ने अपने ही सिस्टम पर सवाल उठाते हुए कुछ मुद्दों पर एतराज जताया है। जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एएस ओका की बेंच ने कहा कि नए लिस्टिंग सिस्टम में मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को सुनवाई का प्रावधान किया गया है। लेकिन ऐसे में उनके पास किसी भी मामले पर फैसला लेने के लिए बहुत कम समय बचता है।

बेंच ने अपने आदेश में कहा कि कि दोपहर के सेशन में केसों की भरमार हो जाती है। एक मामले की सुनवाई के दौरान बेंच ने ये बात कही। जस्टिस कौल सुप्रीम कोर्ट को कोलोजियम के सदस्य भी हैं। हालांकि कॉलेजियम सिस्टम का भारत के संविधान में कोई जिक्र नही है। यह 1998 को सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के जरिए प्रभाव में आया था।

ये भी पढ़ें -: कोलकाता में BJP कार्यकर्ता पुलिस से भिड़े, हुवा लाठी चार्ज औऱ आंसू गैस का इस्तेमाल

कॉलेजियम सिस्टम में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस और सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों का एक पैनल जजों की नियुक्ति और तबादले की सिफारिश करता है। कॉलेजियम की सिफारिश (दूसरी बार भेजने पर) मानना सरकार के लिए जरूरी होता है। ध्यान रहे कि CJI यूयू ललित ने अपने पहले दिन 900 से अधिक याचिकाओं को सूचीबद्ध कराया था।

इनमें हिजाब विवाद, सिद्दीकी कप्पन, गौतम नवलखा समेत कई मामले शामिल हैं। पहले रोस्टर के रूप में सीजेआई ने 15 बेंच में प्रत्येक को लगभग 60 मामले सौंपे। यानि कुल 900 मामले की सुनवाई होनी है। इन याचिकाओं से निपटने के लिए सुबह 10.30 बजे से शाम 4 बजे तक अधिकतम 270 मिनट का समय मिलता है।

ये भी पढ़ें -: टाइल्स लगाने का नहीं दिया पैसा, मिस्त्री ने घर के बाहर खड़ी मर्सिडीज में लगा दी आग

नए सिस्टम में औसतन एक मामले को निपटाने में चार मिनट से थोड़ा अधिक समय मिल रहा है। जस्टिस एमआर शाह की अगुवाई वाली बेंच को सबसे ज्यादा 65 याचिकाएं सौंपी गई हैं।

जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एएस ओका की बेंच ने इसी बात पर एतराज जाहिर करते हुए कहा कि मुकदमों की भरमार से बेंच दब रही हैं। समय नहीं मिलेगा तो कैसे बेंच फैसला कर पाएंगी। नए सिस्टम में बिलकुल भी समय नहीं मिल पा रहा जो बेंच मामले की सुनवाई कर सकें।

ये भी पढ़ें -: BJP का झंडा थामे लोगों ने कलकत्ता पुलिस के जवानों पर बरसाए डंडे, Video वायरल

ये भी पढ़ें -: बिजली टावर पर चढ़ा चोर, कंट्रोल रूम में फोन कर बोला- साथी भाग गए, प्लीज मुझे बचा लो

ये भी पढ़ें -: महाराष्ट्र में UP से आए साधुओं की बेरहमी से पिटाई, गाड़ी से उतारकर बरसाने लगे लाठी-डंडे


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-