India

सलमान रुश्दी पर हमले के बाद भड़कीं कंगना रनौत, हमलावर को बताया…

20220814 090052 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Kangana Ranaut Post: भारतीय मूल के ब्रिटिश लेखक सलमान रुश्दी (Salman Rushdie) पर शुक्रवार को हमला चाकू से हमला किया गया। इस हमले की दुनिया भर के लोगों ने व्यापक निंदा की है। इन्हीं लोगों की तरह, बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी चौंकाने वाली घटना पर गुस्सा जाहिर करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है।

बताते चलें कि अमेरिका के न्यूयॉर्क में शुक्रवार को एक साहित्यिक कार्यक्रम के दौरान सलमान रुश्दी की गर्दन और पेट में चाकू मार दिया गया। वह इस समय वेंटिलेटर पर हैं। कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने हमलावर की पहचान 24 साल के हादी मतर के रूप में की है, जो कथित तौर पर न्यू जर्सी का रहने वाला है।

ये भी पढ़ें -: तेलंगाना BJP विधायक बोले- मुनव्वर फारूकी का शो हुआ तो हम आग लगा देंगे…

हमलावर को “जिहादी” कहते हुए, कंगना ने लिखा, “एक और दिन जिहादियों के जरिए एक और भयावह कृत्य। सैटेनिक वर्सेज अपने समय की सबसे बड़ी किताबों में से एक है … मैं शब्दों से परे हिल गई हूं। भयावह।

बता दें कि न्यूयॉर्क के चौटाउक्वा संस्थान में रुश्दी को लेक्चर देना था। इस दौरान वहां पहुंचे हमलावर हादी मतर के पास मंच तक पहुंचने के लिए पास था। मेजर स्टैनिज़ेव्स्की ने कहा कि आरोपी के पास से एक बैग मिला है जिसमें कुछ इलेक्ट्रॉनिक सामान थे। उन्होंने कहा कि जांच अभी शुरुआती चरण में है और फिलहाल हमले के पीछे के मकसद के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है।

ये भी पढ़ें -: RSS और मोहन भागवत ने बदली ट्विटर की डीपी, भगवा झंडा की जगह तिरंगा लगाया, लोग करने लगे थे ट्रोल

स्टैनिज़ेव्स्की ने कहा कि न्यूयॉर्क पुलिस हमले के पीछे के मकसद का पता लगाने के लिए एफबीआई और शेरिफ ऑफिस के साथ काम कर रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सलमान रुश्दी को उनकी किताब सैटेनिक वर्सेज किताब के लिए पिछले कई सालों से धमकियां मिल रही थीं। ये सलमान की चौथी किताब थी। 1988 में पब्लिश इस किताब के मार्केट में आने के बाद एक समुदाय विशेष के बीच आक्रोश फैल गया और उन्होंने इस किताब को ईशनिंदा करार दिया था। किताब और सलमान के खिलाफ पूरी दुनिया में विरोध प्रदर्शन होने लगा था और किताब पर प्रतिबंध की भी मांग की गई थी।

ये भी पढ़ें -: आमिर खान के खिलाफ शिकायत दर्ज, लगे है ये आरोप…

ये भी पढ़ें -: नरसिंहानंद का बयान- हर घर तिरंगा नहीं, भगवा ध्वज फहराया जाए

ये भी पढ़ें -: क्या डोनाल्ड ट्रंप परमाणु दस्तावेज वाइट हाउस से ले भागे थे? FBI ने मारा छापा


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-