Politics

सत्येंद्र जैन की न्यायिक हिरासत बढ़ाने से कोर्ट का इनकार, ED को दिया यह आदेश…

20220627 130058 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

कथित मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन के मामले में कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है. दिल्ली की विशेष सीबीआई अदालत ने कथित धन शोधन मामले में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की न्यायिक हिरासत बढ़ाने से इनकार कर दिया क्योंकि न तो उन्हें पेश किया गया और न ही कानूनी रूप से अदालत के समक्ष उनका प्रतिनिधित्व किया गया क्योंकि वह अस्पताल में भर्ती हैं.

कोर्ट ने ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय से कहा कि सत्येंद्र जैन को अगर फिजिकली कोर्ट में पेश नहीं किया जा सकता है तो ईडी उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा पेश करवाए. बता दें कि दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन लेवल में गिरावट के बाद बीते सोमवार को एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराए गए थे.

ये भी पढ़ें -: एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में BJP?

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सत्येंद्र जैन को धनशोधन कानून की धाराओं के तहत एक मामले में गत 30 मई को गिरफ्तार किया था और वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं, जिसकी अवधि आज समाप्त होने वाली है. इस मामले की जांच ईडी कर रहा है. इस मामले में ईडी जैन के ठिकानों पर छापेमारी भी कर चुकी है.

दरअसल, बीते दिनों कथित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सत्येंद्र जैन को झटका देते हुए दिल्ली की अदालत ने आप नेता की जमानत याचिका खारिज कर दी.

ये भी पढ़ें -: बागी विधायकों पर संजय राउत का तंज- कब तक छिपोगे गुवाहाटी में, आना पड़ेगा चौपाटी में

विशेष न्यायाधीश गीतांजलि गोयल ने जैन को राहत देने से इनकार करते हुए कहा था कि उनकी चिकित्सा स्थिति दिखाने वाले दस्तावेजों के अभाव में आरोपी को केवल इस आधार पर जमानत पर नहीं छोड़ा जा सकता कि वह ‘स्लीप एपनिया’ से पीड़ित हैं.

अदालत ने यह भी कहा था कि अगर जमानत दी जाती है, तो इस बात की संभावना है कि जैन साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं, क्योंकि वह रसूखदार पद पर हैं. न्यायाधीश ने कहा कि मामले के तथ्यों और परिस्थितियों तथा आरोपी के खिलाफ आरोपों की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए, जमानत याचिका खारिज की जाती है.

ये भी पढ़ें -: R Madhavan बोले- रॉकेट लॉन्च के लिए ‘ISRO’ ने हिंदू कैलेंडर पंचांग से ली मदद, हुए ट्रोल

ये भी पढ़ें -: आदित्य ठाकरे बोले- सभी के लिए शिवसेना के दरवाजे खुले पर बागियों को नहीं लेंगे वापस


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-