Politics

शिवपाल और राजभर से बोले अखिलेश यादव- जहां सम्मान मिले, वहां चले जाओ

20220724 144742 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) और सुभासपा अध्यक्ष ओपी राजभर (OP Rajbhar) को अल्टीमेटम दे दिया है. इन दोनों ने यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) सपा के साथ गठबंधन में लड़ा था. लेकिन चुनाव में हार के बाद से ओपी राजभर और शिवपाल यादव लगातार अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और सपा के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं.

इसी बीच अब लेटर जारी कर सपा ने दोनों नेताओं को जहां सम्मान मिले, वहां जाने की नसीहत दी है. सपा ने शिवपाल यादव के नाम लेटर जारी कर कहा कि आपको जहां सम्मान मिले चले जाएं. लेटर में लिखा, ‘माननीय शिवपाल सिंह यादव जी, अगर आपको लगता है, कहीं ज्यादा सम्मान मिलेगा तो वहां जाने के लिए आप स्वतंत्र हैं.

ये भी पढ़ें -: 54 साल पहले चुराई थी साइकिल अब 92 की उम्र में हुआ गिरफ्तार,इतने का ईनाम था घोषित

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ओम प्रकाश राजभर के लिए भी सपा ने एक लेटर जारी किया है. इसमें लिखा, ‘ओम प्रकाश राजभर जी, समाजवादी पार्टी लगातार भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ लड़ रही है. आपका भारतीय जनता पार्टी के साथ गठजोड़ है और लगातार भारतीय जनता पार्टी को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं. अगर आपको लगता है, कहीं ज्यादा सम्मान मिलेगा तो वहां जाने के लिए स्वतंत्र हैं.

सपा के लेटर के बाद सबसे पहले राजभर की प्रतिक्रिया आई है. ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अखिलेश यादव ने तलाक दिया है, हम इसे मंजूर करते हैं. आगे इसका जवाब देंगे. उन्होंने कहा, ‘पिछड़ों दलितों की आवाज उठाने का नतीजा है. इस तलाक को मंजूर करते हैं और आगे इसका जवाब देंगे. अखिलेश यादव चमचों और सलाहकारों से घिरे हैं. संजय लाठर, अरविंद गोप, नरेश उत्तम, अनुराग भदौरिया जैसे लोग अखिलेश के नवरत्न हैं. अब बहनजी से बातचीत होगी और आगे की रणनीति तय की जाएगी. हम हमेशा से सीएम योगी की तारीफ करते रहे. मुझे जो सुरक्षा मिली, उसके लिए मैंने पत्र लिखा था. अखिलेश यादव ने और यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोट नहीं मांगा. ना मुझे बुलाया गया तो उन्हें वोट कहां से दे देता.

ये भी पढ़ें -: महाराष्ट्र BJP अध्यक्ष बोले- दिल पर पत्थर रखकर एकनाथ शिंदे को CM बनाया

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक राजभर और शिवपाल यादव ने राष्ट्रपति चुनाव में जिस तरह NDA की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया. इससे सपा प्रमुख अखिलेश यादव नाराज थे. इससे पहले भी दोनों नेता लगातार सपा के खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे. सपा ने राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के प्रत्याशी यशवंत सिन्हा को समर्थन दिया था, जबकि राजभर और शिवपाल, द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में बुलाए गए सीएम योगी के डिनर में भी पहुंचे थे.

इससे पहले ओपी राजभर ने कहा था कि सपा अगर चाहे तो गठबंधन तोड़ दे. आज़मगढ़ और रामपुर उपचुनाव में हार के बाद राजभर ने ये भी कहा था कि अखिलेश को AC कमरे से बाहर आकर राजनीति करनी चाहिए. वहीं शिवपाल यादव खुद ये बात कह चुके हैं कि चुनाव में सपा के विधायकों की क्रॉस वोटिंग में उनका हाथ था. अब सपा न इन चिठ्ठियों के जरिए एक संदेश दिया है.

ये भी पढ़ें -: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से नाबालिग को शादी की अनुमति, HC ने मांगा केन्द्र और राज्य से जवाब

ये भी पढ़ें -: कांवड़ पर थूकने के बाद बवाल, कांवड़ियों ने हाइवे को किया जाम, पुलिस चौकी में तोड़फोड़


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-