Politics

शत्रुघ्न सिन्हा बोले- BJP कितनी भी कोशिश कर ले, पटना SSP को हटा नहीं सकेगी

20220717 195929 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

तृणमूल कांग्रेस (TMC) से राज्यसभा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने 3 साल बाद संसद वापसी से लेकर पटना के एसएसपी को लेकर चल रहे बवाल तक कई मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी. आजतक को दिए गए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में उन्होंने विरोध और धरने पर प्रतिबंध जैसे कई मुद्दों पर बात बात की. शॉटगन ने पटना के एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों का भी समर्थन किया. उन्होंने कहा कि भाजपा कितनी भी कोशिश कर ले, पटना के एसएसपी को नहीं हटा सकती है.

बता दें कि पटना के एसएसपी ने कुछ समय परहले पीएफआई और आरएसएस की तुलना की थी. इसके बाद भाजपा नेताओं ने उन पर जमकर निशाना साधा था. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि एसएसपी ने पीएफआई और आरएसएस के बीच कभी कोई तुलना नहीं की. बीजेपी पटना एसएसपी के खिलाफ कार्रवाई में कभी सफल नहीं होगी. क्योंकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उनके समर्थन में हैं.

ये भी पढ़ें -: नरसिंहानंद ने महात्मा गांधी पर की अभद्र टिप्पणी, गाजियाबाद पुलिस ने इन धाराओं में दर्ज किया केस

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा नेता जितना हो सके कोशिश कर सकते हैं, लेकिन पटना एसएसपी को नहीं हटा पाएंगे. शत्रुघ्न सिन्हा ने उन आरोपों को भी खारिज कर दिया है, जिसमें कहा जा रहा था कि मोदी को फंसाने में सोनिया गांधी के सलाहकार अहमद पटेल की भूमिका थी. उन्होंने कहा कि एसआईटी का प्रबंधन सरकार कर सकती है. शत्रुघ्न ने कहा कि संसद सत्र से पहले वास्तविक मुद्दों से भटकने की सरकार की यह एक और कोशिश है.

बता दें कि बयान पर बवाल मचने के बाद एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने कहा था कि मेरे बयान को गलत तरीके पेश किया गया. उन्होंने बताया था, मुझसे पत्रकारों ने पीएफआई के तौर-तरीकों के बारे में पूछा था. गिरफ्तार लोगों ने पूछताछ में पुलिस को जो बताया था, मैंने मीडिया को वही बताया. हमारे पास दस्तावेजों में जिस तरह से कार्यशैली का जिक्र किया गया था, उसमें बताया गया था कि पीएफआई आरएसएस की शाखाओं की तरह अपने ट्रेनिंग प्रोग्राम बना रहा है. उन्होंने जोर देकर कहा, ‘मैंने कभी भी आरएसएस की तुलना पीएफआई से नहीं की. मेरे बयानों के चुनिंदा हिस्से को तूल देकर मुझे दोषी ठहराया जा रहा है, लेकिन मैं किसी भी विवाद में पड़े बिना मामले की जांच पर ध्यान देना चाहता हूं.

ये भी पढ़ें -: इसे कहते हैं रिमोट कंट्रोल सरकार… प्रेस कांफ्रेंस में शिंदे को नोट लिखकर देते दिखे फडणवीस तो…

बता दें कि शत्रुघन सिन्हा की पार्टी से संबंध रखने वाले यशवंत सिन्हा ही यूपीए की तरफ से राष्ट्रपति पद उम्मीदवार हैं. यशवंत सिन्हा ने दावा किया था कि उन्होंने समर्थन के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार को कई बार फोन किया. लेकिन उन्होंने रिसीव नहीं किया है. नीतीश कुमार की ओर से समर्थन न मिलने पर हैरानी जताते हुए सिन्हा ने कहा कि ओडिशा के सीएम ने द्रौपदी मुर्मू का इसलिए समर्थन किया क्योंकि वो ओडिशा से ही आती हैं.

यशवंत सिन्हा की जड़ें भी बिहार से हैं. सिन्हा ने कहा कि राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए जैसे ही मेरे नाम का ऐलान हुआ तो मैंने नीतीश कुमार से फोन पर कई बार बात करने की कोशिश की, लेकिन उनकी ओर जवाब कभी नहीं आया. हो सकता है कि मेरा स्तर इतना न हो कि मैं उनका समय ले सकूं.’बता दें कि जिस समय यशवंत सिन्हा ये बातें मीडिया से बोल रहे थे उस समय उनके साथ बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव, शत्रुघ्न सिन्हा, और लालकृष्ण आडवाणी के पूर्व सहयोगी सुधीन्द्र कुलकर्णी मौजूद थे.

ये भी पढ़ें -: चीफ जस्टिस एनवी रमना बोले- दुर्भाग्य से विपक्ष की गुंजाइश कम होती जा रही है…

ये भी पढ़ें -: यशवंत सिन्हा ने BJP पर कसा तंज- अगर इतनी ही फिक्र है तो आदिवासी को ही पीएम बना दें


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-