Sports

वर्ल्ड कप के बीच टीम में वापसी को लेकर मोहम्मद शमी ने दिया बड़ा बयान, बताया वापसी का राज

20221104 113522 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

मोहम्मद शमी (Mohammad Shami). भारतीय टीम के स्पीडस्टार. पिछले एक साल से वो T20 क्रिकेट से दूर रहे थे. लेकिन वर्ल्ड कप से ठीक पहले जसप्रीत बुमराह चोटिल हो गए और शमी को टीम इंडिया से बुलावा आ गया. मतलब पिछले साल वर्ल्ड कप के बाद सीधा इस बार वर्ल्ड कप के दौरान ही उन्होंने T20 टीम में वापसी की.

32 साल के शमी पिछले एक साल से केवल टेस्ट और वनडे ही खेलते आ रहे थे. और इस बार वर्ल्ड कप की टीम में उन्हें रिजर्व प्लेयर के तौर पर चुना गया था. लेकिन पहले बुमराह और फिर दीपर चाहर की चोट ने शमी के लिए टीम में वापसी के दरवाजे खोल दिए. अब टीम में वापसी को लेकर इंडियन पेसर ने बड़ी बात कही है.

मोहम्मद शमी के मुताबिक T20 टीम का हिस्सा नहीं होने के बावजूद वो लगातार प्रैक्टिस करते रहते थे और टीम में वापसी को लेकर मानसिक रूप से हमेशा तैयार थे. उन्होंने कहा – यह सब तैयारी पर निर्भर करता है. टीम मैनेजमेंट आपसे हमेशा तैयार रहने के लिए कहता है. जब टीम को ज़रूरत होगी, आपको बुलाया जायेगा और यह आपको हमेशा बताया जाता है. अगर आपने मेरे वीडियो देखे हों तो मैने प्रैक्टिस कभी नहीं छोड़ी थी. मैं लगातार प्रैक्टिस कर रहा था.

ये भी पढ़ें -: पाकिस्तानी अभिनेत्री का वादा, भारत को हरा दिया तो ‘जिम्बाब्वे के लड़के’ से शादी कर लूंगी

शमी के मुताबिक किसी भी खिलाड़ी के लिए एक फॉर्मेट से दूसरे फॉर्मेट में ढलना बिल्कुल भी आसान नहीं होता है. उन्होंने कहा – एक फॉर्मेट से दूसरे के अनुकूल ढलना हमेशा आसान नहीं होता. यह इस पर निर्भर करता है कि टीम से आपका तालमेल कैसा है. मैं पिछले T20 विश्व कप के बाद अब आकर T20 खेल रहा हूं. यह बात सही है कि इसके लिए खिलाड़ी को आत्मविश्वास की ज़रूरत होती है. इसके साथ ही प्रैक्टिस बनाए रखना भी जरूरी होता है. मेरा हमेशा से मानना है कि अपने हुनर पर भरोसा होना चाहिए. दबाव के पलों में शांत रहना ज़रूरी है और अनुभव तो काम आता ही है.

शमी के प्रदर्शन की बात की जाए तो उन्होंने अब तक खेले गए 4 T20 विश्वकप मुकाबलों में 4 विकेट हासिल किए हैं. भले ही उनके नाम विकेट ज्यादा नहीं रहे हैं, लेकिन वो टीम के लिए काफी उपयोगी रहे हैं.

पाकिस्तान के खिलाफ़ सुपर-12 के पहले मुकाबले में मोहम्मद शमी ने 4 ओवर में 25 रन देकर 1 विकेट निकाला, नीदरलैंड्स के खिलाफ़ फिर किफायती रहते हुए 4 ओवर में 27 रन देकर 1 विकेट चटकाया, साउथ अफ्रीका के खिलाफ़ तो उन्होंने 4 ओवर में सिर्फ 13 रन दिए और 1 विकेट लिया. हालांकि बांग्लादेश के खिलाफ़ वो थोड़ा महंगे साबित हुए. लेकिन उनके अनुभव का फायदा भारतीय टीम को होता दिख रहा है.

ये भी पढ़ें -: पाकिस्तान के सामने ढेर हुए साउथ अफ्रीकी शेर, सेमीफाइनल का समीकरण हुआ रोमांचक

ये भी पढ़ें -: IND vs BAN मैच में शोएब अख्तर ने दिया ऐसा बयान कि बाद मैं लेना पड़ा यू-टर्न


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-