Politics

लाल किले से बोले PM मोदी- मैंने गांधी का सपना पूरा करने के लिए खुद को समर्पित किया औऱ…

20220815 122727 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Independence Day: स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज लाल किले की प्राचीर से 9वीं बार देश को संबोधित किया. देश आजादी के 75 साल पूरे होने पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. गांधी का सपना पूरा करने के लिए खुद को समर्पित किया- इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी का आखिरी व्यक्ति को लाभ पहुंचाने का सपना था, मैंने अपने महात्मा गांधी के सपने को पूरा करने के लिए खुद को समर्पित किया.

भारत लोकतंत्र की जननी- पीएम मोदी ने कहा कि भारत लोकतंत्र की जननी है. मैं पहला व्यक्ति था, जिसे लाल किले से देशवासियों के गौरवगान करने का मौका मिला था. जितना आपसे सीखा है, आपको जान पाया हूं. आपके सुख-दुख को जान पाया हूं. उसे लेकर मैंने पूरा कालखंड उन लोगों के लिए खपाया है.

ये भी पढ़ें -: नरसिंहानंद बोले- हिदुओं के दलाल मुसलमानों के आर्थिक बहिष्कार की बात करते हैं लेकिन जब इनकी सरकार…

सामूहिक चेतना का पुनर्जागरण हुआ- लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देशवासियों ने भी उपलब्धियां हासिल की हैं, पुरुषार्थ किया है, हार नहीं मानी है और संकल्पों को ओझल नहीं होने दिया है. हमने पिछले दिनों देखा है, हमने एक और ताकत का अनुभव किया है. भारत में सामूहिक चेतना का पुनर्जागरण हुआ है. आजादी का अमृत अब संकल्प में बदल रहा है. सिद्धि का मार्ग नजर आ रहा है. देश 5 संकल्प लेकर आगे बढ़ेगा- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश अब 5 संकल्प लेकर आगे बढ़ेगा. आने वाले 25 साल के लिए 5 संकल्प लेने होंगे. उन्होंने कहा कि पंच प्रण लेने होंगे. हमें आजादी के दीवानों के सपनों का संकल्प लेना होना.

पहला प्रण- अब देश बड़े संकल्प लेकर ही चलेगा. ये बड़ा संकल्प है विकसित भारत. इससे कम कुछ नहीं होगा. 2047 तक विकसित भारत का सपना लेकर आगे बढ़ना है. दूसरा प्रण- किसी भी कोने में हमारे मन के भीरत गुलामी का एक भी अंश है तो उसे बचने नहीं देना है. शत-प्रतिशत सैकड़ों साल की गुलामी ने हमें जकड़कर रखा है, हमारी सोच में विकृतियां पैदा कर रखी हैं. अगर हमें गुलामी की छोटी सी बात भी नजर आती है तो हमें इससे मुक्ति पानी होगी.

ये भी पढ़ें -: केरल के एक विधायक ने जम्मू-कश्मीर को लेकर की विवादित पोस्ट, राजद्रोह की शिकायत दर्ज

तीसरा प्रण- हमें अपने विरासत पर गर्व होना चाहिए. यही विरासत है कि नित्य नूतन स्वीकारती रही है. चौथा प्रण- एकता और एकजुटता. 130 देशवासियों में एकता. एक भारत श्रेष्ठ भारत के लिए ये हमारा चौथा प्रण है. पांचवां प्रण- नागरिकों का कर्तव्य. ये हमारे आने वाले 25 साल के सपनों को पूरा करने के लिए बहुत बड़ी प्रण शक्ति है. जब सपने बड़े होते हैं, तो पुरुषार्थ भी बहुत बड़ा होता है.

बड़े संकल्प से ली आजादी- पीएम मोदी ने कहा कि हमने बड़ा संकल्प लिया था. आजादी का. हम आजाद हो गए, ये इसलिए हुआ क्योंकि संकल्प बहुत बड़ा था, अगर संकल्प सीमित होता तो शायद आज भी संघर्ष कर रहे होते.

ये भी पढ़ें -: शिंदे गुट में बगावत की आशंका, संजय शिरसाट ने उद्धव की तारीफ की, 10 मिनट बाद ट्वीट डिलीट

ये भी पढ़ें -: सलमान रुश्दी पर हमले के बाद भड़कीं कंगना रनौत, हमलावर को बताया…

ये भी पढ़ें -: डोनाल्ड ट्रंप के ठिकानों पर छापेमारी में FBI ने बरामद किए ‘टॉप सीक्रेट’ दस्तावेज़


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-