India

मोहम्मद जुबैर को मिली जमानत तो स्वरा भास्कर ने किया ये ट्वीट, लोग करने लगे तरह-तरह की बातें

20220720 221522 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर (Mohammad Zubair) को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। शीर्ष अदालत ने 20 जुलाई को जुबैर को सभी मामलों में अंतरिम जमानत देते हुए कहा कि उन्हें अंतहीन समय तक हिरासत में रखना सही नहीं है। इस खबर पर शेयर करते हुए बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद किया है। जिसके बाद यूजर्स ने उनकी खिंचाई करना शुरू कर दिया।

इशांका ने लिखा,”शिव जी ने वरदान तो रावण को भी दिया था लेकिन बाद में जो हुआ वो सबको पता है। खुश होने की जरूरत नहीं है।” अविनाश चंदर ने लिखा,”जमानत मिली है। अभी तो पन्ने खुलेंगे। फिर छाती पीट कर रोना होगा लिब्रांडुओं को।

ये भी पढ़ें -: अक्षय कुमार ने दी सुधीर चौधरी को नए शो की बधाई तो लोग ट्रोल करते हुवे करने लगे ऐसे कमेंट…

देव नाम के यूजर ने लिखा,”वही सुप्रीम कोर्ट है जिसने नूपुर शर्मा को राहत दी। फिर वामपंथियों और दंगईयों को दर्द होने लगा न।जयदीप मकवाना ने लिखा,”गद्दारी इसे कहते हैं। कुछ भी करो, लेकिन नफरत फैराने वाले का साथ देकर 2 रुपये कमालो ट्वीट करके।”

आयुष नाम के यूजर ने लिखा,”अच्छा हुआ, तभी तो फिर वो फेक न्यूज फैलाएगा। वरना फिर सिर तन से जुदा को हवा कौन देगा।” प्रकाश ने लिखा,”चिंता मत करो, ये फिर से वापस जाएगा। क्योंकि ये सुधरेगा तो नहीं। आपको बता दें कि 20 हजार रुपये के निजी मुचलके पर सुप्रीम कोर्ट ने जुबैर को अंतरिम जमानत दी है।

ये भी पढ़ें -: योगी के मंत्री ने इस्‍तीफे में लिखा- दलित होने के कारण मेरी नहीं सुनते अफसर…पढ़िए विस्तार से…

मोहम्मद जुबैर ने सुप्रीम कोर्ट से अपने खिलाफ सभी 6 मामलों को रद्द करने की अपील की थी। अब सुप्रीम कोर्ट ने जुबैर की याचिका पर उनके खिलाफ दर्ज सभी छह मामलों को क्लब कर दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल को ट्रांसफर करने को कहा है। इसके अलावा जुबैर के पुराने ट्वीट्स की जांच के लिए जो एसआईटी का गठन किया गया था, सुप्रीम कोर्ट ने उसे भी भंग कर दिया है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने जुबैर के ट्वीट्स पर रोक लगाने के लिए याचिका दायर की थी। जिसपर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि एक पत्रकार लिखने से कैसे रोक सकते हैं। अगर वो ऐसा कुछ करता है जिससे कानून का उल्लंघन होता है, तो वो कानून के प्रति जवाबदेह है। लेकिन जब कोई नागरिक आवाज उठा रहा हो तो हम उसके खिलाफ अग्रिम कार्रवाई कैसे कर सकते हैं?

ये भी पढ़ें -: नए शो के साथ टीवी पर दिखे सुधीर चौधरी, लगा शो का नाम कॉपी करने का आरोप

ये भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट बोला- मोहम्मद ज़ुबैर को रिहा करिए, कोर्ट ने यूपी पुलिस की बनाई SIT की भंग


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-