India

मोरबी ब्रिज हादसे का मामला SC पहुंचा, जानिए किसने डाली है जनहित याचिका

20221101 125756 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

गुजरात के मोरवी में रविवार को हुए ब्रिज हादसे के कारणों की जांच को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई है. जनहित याचिका में मानवीय लापरवाही से हुई इस घटना की सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की अगुवाई में जांच कराने की मांग की गई है. सुप्रीम कोर्ट के वकील विशाल तिवारी ने यह जनहित याचिका दायर की है. याचिका में मांग की गई है कि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए देशभर में पुराने पुल या ऐतिहासिक धरोहरों में जुटने वाली भीड़ को मैनेज करने के लिए नियम बनाए जाने चाहिए.

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई हुई. CJI यूयू ललित के सामने केस का जिक्र किया गया था. वकील विशाल तिवारी ने कहा कि विभिन्न राज्यों में ऐसी संरचनाएं हैं. हमारी मांग है कि इस केस की जांच के लिए न्यायिक आयोग का गठन किया जाए. वहीं लिहाजा सीजेआई की अगुवाई वाली बेंच ने 14 नवंबर को इस केस की लिस्टिंग की अनुमति दी है.

बता दें कि गुजरात के मोरबी की मच्छु नदी पर बना केबल ब्रिज रविवार शाम को टूट गया था, जिसमें अब तक 143 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है. गुजरात सरकार ने मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की बात कही है. इस मामले पर प्रधानमंत्री मोदी ने उच्च अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी की.

ये भी पढ़ें -: Byju’s से निकाले जाएंगे 2500 कर्मचारी, सीईओ ने कहा- मुनाफे की कीमत चुकानी पड़ती है

इस मामले में ब्रिज का रखरखाव करने वाली कंपनी ओरेवा से जुड़े नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इसके साथ ही मामले में संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका की भी जांच की जा रही है. इस हादसे को लेकर गुजरात में दो नवंबर को राज्यव्यापी शोक मनाया जाएगा.

मोरबी में हुए ब्रिज हादसे के बाद अब तक पुल से जुड़े कई खुलासे हो चुके हैं. सामने आया है कि मोरबी का 765 फुट लंबा और 4 फुट चौड़ा पुल 143 साल पुराना था. इस पुल का उद्घाटन 1879 में किया गया था. इस केबल ब्रिज को 1922 तक मोरबी में शासन करने वाले राजा वाघजी रावजी ने बनवाया था. वाघजी ठाकोर ने पुल बनाने का फैसला इसलिए लिया था, ताकि दरबारगढ़ पैलेस को नजरबाग पैलेस से जोड़ा जा सके.

रेस्क्यू ऑपरेशन में एनडीआरएफ की 5 टीम, एसडीआरएफ की 6 प्लाटून, वायुसेना की एक टीम, सेना के दो कॉलम और नौसेना की दो टीमें लगी हैं. इनके अलावा स्थानीय लोग भी रेस्क्यू ऑपरेशन में साथ दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें -: UP के बलिया में हनुमानजी की मूर्ति हटाने पर हंगामा, थाना प्रभारी समेत 5 पुलिसकर्मी घायल

ये भी पढ़ें -: विराट कोहली के रूम का चोरी से बना वीडियो देख बौखलाईं अनुष्का, कही ये बात…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-