India

‘महोदय, शादी के बाद ‘खुशखबरी’ के लिए 15 दिन की छुट्टी चाहिए…UP पुलिस के सिपाही का अनोखा आवेदन

20220801 193208 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

उत्तर प्रदेश के बलिया जनपद में तैनात एक पुलिस कांस्टेबल की छुट्टी का आवेदन वायरल हो गया है. इसमें सिपाही ने अपने अधिकारी को लिखा है कि शादी को सात महीने हो गए हैं, अभी तक कोई ‘खुशखबरी’ नहीं मिली है, इसलिए 15 दिन का अवकाश देने की कृपा करें. यह आवेदन पत्र अब पूरे जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है.

जिले की डायल 112 में तैनात गोरखपुर के सिपाही ने यह आवेदन दिया है. इस प्रार्थना पत्र में जवान ने अपने अधिकारी को लिखा है, ‘महोदय, प्रार्थी की शादी को सात महीने हो गए. अभी तक खुशखबरी नहीं मिली. मैडम (पत्नी) ने डॉक्टर के सलाह के अनुसार दवा ली है और उसके साथ रहना है. प्रार्थी घर पर निवास करेगा. अतः श्रीमान जी से निवेदन है कि प्रार्थी को 15 दिन की EL (अर्जित अवकाश) देने की कृपा करें. आपकी महान कृपा होगी.

ये भी पढ़ें -: RBI के पूर्व गवर्नर बोले- अल्पसंख्यकों को दोयम दर्जे का नागरिक बनाया तो टूट जाएगा भारत

यूपी के पुलिस महकमे में यह पत्र वायरल होने के बाद से ही चर्चा में आ गया है. एक तरफ जहां पुलिस महकमे के लोग इसको लेकर चटखारे ले रहे हैं, तो दूसरी तरफ अवकाश के वजहों को लेकर खूब विचार विमर्श भी कर रहे हैं.

दरअसल, 24 घंटे की ड्यूटी और काम के दबाव की वजह से पुलिसकर्मियों को कभी_कभी अपने परिजनों की शादी या किसी सुख-दुख में शामिल होने के लिए छुट्टी तक नहीं मिल पाती है. ऐसे में खास तौर पर महिला पुलिस भी काफी परेशान दिखती है. पुलिस विभाग में छुट्टी न मिलने के कारण कभी कभी लोग नौकरी को अलविदा तक कह देते हैं या फिर सुसाइड जैसे खौफनाक कदम उठाने तक की सूचनाएं भी आती हैं.

ये भी पढ़ें -: छात्रा का PM मोदी को लेटर- बहुत महंगाई है…पेंसिल-रबर तक महंगी, मेरी मैगी के भी बढ़ा दिए दाम

यही नहीं, प्रदेश में किसी त्योहार या संवेदनशील स्थिति की वजह से भी पुलिस विभाग में सारी छुट्टियां निरस्त कर दी जाती हैं. ऐसे में पुलिसकर्मी समाज और देश हित में अपनी जिम्मेदारियां तो पूरी कर पाते हैं, मगर उनकी घर की जिम्मेदारी अधूरी रह जाती है. बलिया पुलिस के जवान का अनोखा आवेदन पत्र भी कुछ हद तक इसी ओर इशारा करता है.

बता दें कि यूपी पुलिस विभाग में महिलाओं के लिए मातृत्व और पुरुषों के लिए पितृत्व अवकाश का प्रावधान है. महिलाओं को यह छुट्टी 180 दिन तो पुरुषों के लिए 15 दिन की होती है. पूरी नौकरी के दौरान यह अवकाश सिर्फ दो बार ही लिया जा सकता है.

ये भी पढ़ें -: नौकरी के संकट से ध्यान भटकाने के लिए अल्पसंख्यकों को टारगेट करना खतरनाक- रघुराम राजन

ये भी पढ़ें -: ज्ञानवापी केस में मुस्लिम पक्ष के वकील अभय नाथ यादव का हार्ट अटैक से निधन


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-