Politics

महाराष्ट्र BJP अध्यक्ष बोले- दिल पर पत्थर रखकर एकनाथ शिंदे को CM बनाया

20220724 075810 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने शनिवार को चौंकाने वाला बयान दिया है. पाटिल ने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में एकनाथ शिंदे के चेहरे के साथ भाजपा आगे बढ़ी क्योंकि जनता को न केवल एक स्पष्ट संदेश देना था, बल्कि सरकार को स्थिरता भी सुनिश्चित करनी थी.

पाटिल का ये बयान भाजपा के भीतर आक्रोश या विरोध की पहली चिंगारी के रूप में कहा जा सकता है. महाराष्ट्र भाजपा चीफ ने राज्य कार्यकारिणी की बैठक में कहा कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनाते समय हमने दिल पर पत्थर रख लिया.

ये भी पढ़ें -: दिल्ली मेट्रो के लिए हो रही थी खुदाई और मिल गई मस्जिद…DMRC ने कही ये बात…

बता दें कि शिवसेना के बागी गुट के नेता एकनाथ शिंदे ने 30 जून को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी जबकि देवेंद्र फडणवीस को उपमुख्यमंत्री बनाया गया था. फिलहाल, महाराष्ट्र सरकार को कैबिनेट विस्तार का इंतजार है.

चंद्रकांत पाटिल ने ये भी कहा कि एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनता देख मैं और अन्य भाजपा नेता दुखी थे लेकिन हमलोगों ने अपने दुख को काबू में कर लिया और आगे बढ़ गए क्योंकि हमें महाराष्ट्र के विकास की रफ्तार को आगे बढ़ाना था.

ये भी पढ़ें -: दीपेश भान बॉलिंग के बाद टोपी उठाने के लिए झुके, तभी… टिल्‍लू ने बताई आख‍िरी पलों में क्‍या हुआ

उधर, शिवसेना नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे ने दावा किया है कि राज्य में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार असंवैधानिक है और यह जल्द ही गिर जाएगी. बता दें कि ठाकरे इन दिनों महाराष्ट्र की यात्रा कर रहे हैं जिसे शिव संवाद यात्रा का नाम दिया गया है.

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में बाढ़ के हालात हैं, लेकिन सरकार पार्टी के विस्तार में जुटी है. आदित्य ने कहा कि हम सिर्फ महाराष्ट्र के लोगों के संपर्क में हैं और बागी विधायक अगर चाहते हैं तो वे हमारे पास वापस आ सकते हैं.

ये भी पढ़ें -: जेल से छूटने के बाद बोले मोहम्‍मद जुबैर- वैसे ही काम करूंगा, जैसे करता था औऱ…

ये भी पढ़ें -: नेशनल अवॉर्ड में विवेक अग्निहोत्री की फिल्म द कश्मीर फाइल्स को नहीं मिला स्थान तो भड़कते हुवे कह दी ये बात…

ये भी पढ़ें -: गोवा में ‘अवैध बार’ पर कांग्रेस ने स्मृति इरानी को घेरा, स्मृति इरानी ने दिया ये जवाब…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-