Politics

मनीष सिसोदिया समेत 15 के खिलाफ CBI ने दर्ज की FIR, मनीष को बताया इस घोटाले का मुख्य आरोपी

20220819 225102 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

एक्साइज घोटाले मामले में दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की मुसीबत बढ़ती जा रही है. कई घंटों से उनके घर पर सीबीआई की छानबीन जा रही है. एक सरकारी अधिकारी के निवास पर भी रेड हुई है. वहां से जांच एजेंसी को एक्साइज ड्यूटी से जुड़े कुछ गोपनीय डॉक्यूमेंट हाथ लगे हैं. सीबीआई के मुताबिक ये डॉक्यूमेंट किसी भी सरकारी अधिकारी के घर पर नहीं होने चाहिए थे.

जानकारी के लिए बता दें कि सुबह से ही मनीष सिसोदिया और कुछ दूसरे अधिकारियों के घर पर सीबीआई की रेड जारी है. कई घंटों की इस छापेमारी में कुछ दस्तावेज जमा किए गए हैं. ऐसे ही कुछ दस्तावेज एक सरकारी अधिकारी के आवास से भी मिले हैं. सीबीआई अभी ये नहीं बता रही है कि आखिर ये दस्तावेज कौन से अधिकारी के यहां से मिले हैं, लेकिन पूरी जांच में ये एक बड़ा डेवलपमेंट माना जा रहा है. वैसे डॉक्यूमेंट के अलावा सीबीआई सिसोदिया की गाड़ी की भी तलाशी ले रही है. जांच एजेंसी को उम्मीद है कि डिप्टी सीएम की गाड़ी से भी कुछ जरूरी दस्तावेज मिल सकते हैं.

ये भी पढ़ें -: हत्या के आरोपी की तलाश में बाबा की शरण में पहुंची पुलिस, अब एएसआई सस्पेंड, थाना प्रभारी लाइन अटैच

इस पूरे मामले में सीबीआई ने जो FIR दर्ज की है, उसमें मुख्य आरोपी भी मनीष सिसोदिया को बना दिया गया है. कुल 15 लोगों के नाम सामने आए हैं, जिसमें टॉप पर सिसोदिया के नाम का जिक्र है. यहां ये जानना जरूरी हो जाता है कि मनीष सिसोदिया के खिलाफ सीबीआई जांच की सिफारिश एलजी वीके सक्सेना ने मुख्य सचिव की रिपोर्ट के आधार पर की थी. मनीष सिसोदिया पर नई एक्साइज ड्यूटी में गड़बड़ी करने का आरोप है.

मुख्य सचिव ने दो महीने पहले अपनी रिपोर्ट सौंपी थी. इस रिपोर्ट में GNCTD एक्ट 1991, ट्रांजेक्शन ऑफ बिजनेस रूल्स 1993, दिल्ली एक्साइज एक्ट 2009 और दिल्ली एक्साइज रूल्स 2010 के नियमों का उल्लंघन पाया गया था. सिसोदिया पर आरोप तो ये भी लगा है कि कोरोना के बहाने लाइसेंस देने में नियमों की अनदेखी की गई. टेंडर के बाद शराब ठेकेदारों के 144 करोड़ रुपए माफ किए गए.

ये भी पढ़ें -: BJP विधायक का बयान- बिल्कीस बानो के रेपिस्ट ‘ब्राह्मण और अच्छे संस्कार वाले थे

अभी के लिए मनीष सिसोदिया और आम आदमी पार्टी इन आरोपों को बेबुनियाद बता रही है. एक तरफ सिसोदिया खुद को कट्टर ईमानदार बता रहे हैं तो वहीं केजरीवाल और राघव चड्ढा दावा कर रहे हैं कि केंद्र उनकी सरकार की लोकप्रियता से डर गई है.

वैसे इस समय एक्साइज घोटाले को लेकर तो विवाद चल ही रहा है, बवाल उस विज्ञापन पर ही है जो न्यूयॉर्क टाइम्स में छपा था. उस अंतरराष्ट्रीय अखबार के फ्रंट पेज पर दिल्ली सरकार की शिक्षा नीति की जमकर तारीफ की गई थी. बीजेपी के मुताबिक आप पैसा देकर अपनी खुद की तारीफ करवाती है. लेकिन आजतक ने न्यूयॉर्क टाइम्स से बात की तो अखबार ने साफ कर दिया कि उसकी तरफ से कोई विज्ञापन नहीं छापा गया है, बल्कि वो ग्राउंड रिपोर्टिंग के आधार पर तैयार की गई एक खबर है.

ये भी पढ़ें -: अक्षय की रक्षा-बंधन बनी 2022 की सबसे फ्लॉप फिल्म तो ‘लाल सिंह चड्ढा’ को हो सकता है इतने करोड़ का नुकसान

ये भी पढ़ें -: मनीष सिसोदिया के घर सीबीआई का छापा, एक साथ 21 जगहों पर रेड, जानें विस्तार से…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-