Politics

प्रशांत किशोर का नीतीश कुमार पर तंज, बोले- 90 डिग्री पर झुककर PM मोदी को प्रणाम करते थे अब…

20220910 185135 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Prashant Kishor Taunt on Bihar CM Nitish Kumar: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने पलटवार किया है। बिहार तक न्यूज पोर्टल से बातचीत करते हुए हुए कहा जब लोगों ने नीतीश कुमार के नए प्रयोग पर मेरी टिप्पणी मांगी तो मैंने बताया, ‘जिस कलाकारी से या जिस समझदारी से नीतीश कुमार जी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे हुए हैं। पिछले 10 सालों में उनका ये छठवां फॉर्मेशन है। उसमें एक ही चीज कॉन्सटेंट है नीतीश कुमार जी का मुख्यमंत्री बने रहना। वो कुर्सी है उनकी की जाती ही नहीं।

प्रशांत किशोर ने आगे कहा, ‘मुझे लोग कहते हैं कि आपको ब्रैंडिंग का थोड़ी बहुत समझ है इसलिए मैं कहता हूं कि अगर मुझे फेवीकोल वाले मिलें तो मैं उनको बोलूंगा कि नीतीश कुमार और उनकी कुर्सी का जोड़ फेविकोल से भी मजबूत है एक बार फेवीकोल का जोड़ टूट जाएगा लेकिन नीतीश कुमार की उनकी कुर्सा का जोड़ नहीं टूटेगा।’ जब प्रशांत किशोर से पूछा गया कि नीतीश कुमार फेविकोल के साथ विपक्षी नेताओं से दिल्ली में बैठक कर रहे हैं सामने 2024 का चुनाव तो इसको लेकर क्या कहेंगे आप?

ये भी पढ़ें -: नवनीत राणा जिसे लव जिहाद बताकर थाने में भड़की थीं, उस केस में लड़की के बयान से ट्विस्ट

प्रशांत किशोर ने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘बिहार में पिछले दिनों जो सियासी घटनाक्रम हुआ है वो एक राज्यस्तर की घटना है। इसका मैं राष्ट्रीय राजनीति पर कोई असर होता हुआ नहीं देख रहा हूं। जो लोग भी चुनाव जीतते हैं वो नई फॉर्मेशन की कोशिश करते हैं दिल्ली जाते हैं मुंबई जाते हैं। वो अपने साथी नेताओं से मिलते हैं। आप चार नेताओं से मिलिएगा उनके साथ चाय पीजिएगा, मीटिंग कीजिएगा तो इन बातों से जनता पर क्या फर्क पड़ने वाला है? उससे आपके चुनाव लड़ने की क्षमता, जनता पर आपका विश्वास और एक नए नैरेटिव को लेकर क्या फर्क पड़ता है?

पीके ने आगे कहा, ‘मान लीजिए महाराष्ट्र में अगर पहले महाविकास अघाड़ी की सरकार थी और अब एनडीए की सरकार है तो उसका दूसरे राज्यों में क्या फर्क पड़ जाएगा? बिहार में तो उसका फर्क नहीं दिखाई दिया? ये राज्यों पर आधारित घटनाएं हैं नीतीश जी दिल्ली गए तो बिहार से संबंधित नेता पत्रकार जो मिनट टू मिनट नीतीश जी को फॉलो कर रहे हैं वो इसमें कुछ मतलब निकालने का प्रयास कर सकते हैं। राष्ट्रीय स्तर की राजनीति पर इस तरह की घटनाओं का कोई बहुत बड़ा असर मैं नहीं देखता हूं।

ये भी पढ़ें -: UP की जेल में बंद केरल के पत्रकार सिद्दीकी कप्पन को सुप्रीम कोर्ट से मिली बड़ी राहत, पढ़ें विस्तार से…

जब पीके से ये पूछा गया कि आप उन सभी नेताओं के साथ काम कर चुके हैं जिनसे नीतीश कुमार मुलाकात कर रहे हैं तो आपको ऐसा कुछ लगता है कि इस बार बीजेपी बनाम ऑल पार्टीज का कोई मुकाबला होते हुए दिखाई दे रहा है? इस सवाल के जवाब में पीके ने कहा, ‘मैंने इन बातों से खुद को अलग कर रखा है। जब से मैं बिहार आया हूं या इसके पहले जब मैं बिहार आता था तो लोगों का फीडबैक मुझे यही मिला है कि वो चाहते हैं मैं बिहार में ही रहूं।

बिहार के बाहर की राजनीति बाहर के नेताओं के साथ इधर-उधर की बातों की बजाए आप बिहार में रहकर यहां फोकस करते हुए काम कीजिए। मैं पूरी ईमानदारी के साथ वो काम करने की कोशिश कर रहा हूं। 5 मई के बाद से जब से मैंने इस बात का ऐलान किया है तब से मैं लगातार बिहार में ही रुककर काम कर रहा हूं।

ये भी पढ़ें -: असम CM की रैली में बवाल, मंच पर चढ़े TRS कार्यकर्ता ने जबरन खींचा माइक

ये भी पढ़ें -: ह्यूमन डेवलपमेंट से प्रेस फ्रीडम इंडेक्स तक, जानें कहां-कहां गिरी भारत की रैंकिंग

ये भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट बोला- हिजाब की तुलना सिखों की पगड़ी और कृपाण से नहीं की जा सकती है


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-