India

पिता से पैसे ऐंठने के लिए बेटे ने रची साजिश, 30 लाख तैयार रखो, वरना 300…

20221117 183151 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

राजधानी दिल्ली में हुए श्रद्धा हत्याकांड ने पूरे देश को झकझोर दिया है. इस हत्याकांड की तरह ही कानपुर में एक साजिश रची गई. कानपुर में एक युवक ने अपने पिता से रकम ऐंठने के लिए अपने ही 300 टुकड़े करने की धमकी दे डाली. उसने अपने अपहरण का नाटक रचकर पिता को वॉट्सऐप पर मैसेज भेज कर 30 लाख की फिरौती मांग कर धमकी दी.

वॉट्सऐप पर भेजे गए मैसेज में लिखा- अगर पैसा नहीं दिया तो तेरे बेटे के तीन सौ टुकड़े कर डालेंगे. पिता की सूचना पर जब पुलिस ने अपनी जांच शुरू की तो सारे मामले का खुलासा हो गया. पुलिस ने अब बेटे को गिरफ्तार कर लिया है.

क्या है पूरा मामला कानपुर में बर्रा के दामोदर नगर निवासी चंद्रकांत तिवारी के वॉट्सऐप पर एक मैसेज आया था कि तुम्हारे बेटे का अपहरण कर लिया गया है, 30 लाख फिरौती देने की तैयारी करो, अगर फिरौती नहीं दी तो तुम्हारे बेटे के 300 टुकड़े कर डालेंगे. ये मैसेज 14 नवंबर को आया था. पिता ने तुरंत पुलिस को सूचना दी.

ये भी पढ़ें -: श्रद्धा मामले में सामने आया गवाह, आरोपी आफताब के घर काम करने वाले प्लंबर ने खोले राज

चंद्रकांत तिवारी का बेटा सोमनाथ तिवारी सिंचाई विभाग में सींचपाल पद पर कार्यरत है. वह अपनी ड्यूटी के लिए 13 नवंबर को सुबह गया था और वापस लौट कर नहीं आया. 14 नवंबर को शाम को चंद्रकांत तिवारी, उनकी पत्नी और बहू के मोबाइल पर वॉट्सऐप मैसेज आया. उसमे लिखा था कि अगर अपने बेटे को बचाना चाहते हो तो कल शाम 4:00 बजे तक 30 लाख तैयार रखना और पुलिस या किसी को बताया तो तुम्हारे बेटे के 300 टुकड़े कर देंगे.

डीसीपी साउथ प्रमोद कुमार ने घटना के संबंध में टीमें लगाई. जांच के दौरान पता चला कि युवक के तीनों फोन भी बंद थे तो सर्विलांस टीम एक्टिव हुई. 24 घंटे में ही खुलासा हो गया कि सोमनाथ तिवारी ने स्वयं ही अपने अपहरण का नाटक रचा. इसके लिए वह घंटाघर स्थित होटल तेजस रुका और वहीं से बंधक बनाए हुए फोटो परिवार वालों को भेज दिया.

होटल में रुककर सोमनाथ नशेबाजी कर रहा था. पुलिस ने सोमनाथ को सकुशल बरामद कर लिया है. पुलिस का कहना है कि अब सोमनाथ गिरफ्तार करके वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें -: बागेश्वर धाम के धीरेन्द्र शास्त्री पर भड़के प्रीतम लोधी, बोले- ये ‘पापी’ जहाँ भी जाएगा…

ये भी पढ़ें -: ग्रेजुएट चायवाली रो-रोकर बोली- हम अपनी हद भूल गए थे…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-