नवनीत राणा के खिलाफ फिर से एक मामला दर्ज, लव जिहाद के आरोप से जुड़ा है मामला

नवनीत राणा के खिलाफ फिर से एक मामला दर्ज, लव जिहाद के आरोप से जुड़ा है मामला
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Maharashtra News: महाराष्ट्र के अमरावती शहर की पुलिस ने लोकसभा सदस्य नवनीत राणा के खिलाफ शनिवार रात एक गैर-संज्ञेय अपराध दर्ज किया. दरअसल सांसद पर कथित तौर पर ये आरोप है कि उन्होंने एक व्यक्ति को बदनाम किया जिसमें उसे दूसरे समुदाय की एक महिला का अपहरण करने और उसे बंधक बनाने आरोप लगाया गया और साथ ही इस पूरी घटना को सांसद द्वारा “लव जिहाद” करार दिया गया.”

हालांकि, पिछले मंगलवार को लापता हुई महिला सतारा से एक दिन बाद मिली और मीडिया को बताया कि राणा ने उसके बारे में झूठी जानकारी फैलाई थी और अपहरण या आदमी के साथ भाग जाने से इनकार किया था. जिस व्यक्ति को संदेह के आधार पर हिरासत में लिया गया था, उसके मिलने के बाद उसे जाने दिया गया.

ये भी पढ़ें -: आपस में भिड़े उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे के समर्थक, विधायक पर गोली चलाने के आरोप

उसके पिता ने तब सांसद राणा के खिलाफ शिकायत के साथ पुलिस से संपर्क किया और आरोप लगाया कि उसने झूठी सूचना फैलाकर अपने बेटे को बदनाम किया और उसे धमकी दी. राजापेठ पुलिस स्टेशन के एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “शिकायत के आधार पर हमने राणा के खिलाफ आईपीसी की धारा 500 (मानहानि) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत एक एनसी दर्ज किया है.

महिला के लापता होने के बाद, स्थानीय भाजपा नेताओं और निर्दलीय सांसद राणा ने इस घटना को “लव जिहाद” करार दिया. हालांकि, लापता महिला ने कहा कि “नवनीत राणा ने मेरे बारे में जो कुछ भी कहा है वह झूठा है. मैं किसी के साथ नहीं भागी. मैं लोगों से अनुरोध करती हूं कि वे मुझे बदनाम करना बंद करें. मैं अकेली घर से निकलाी थी.”

ये भी पढ़ें -: बिलकिस बानो केस पर शाजिया इल्मी के आर्टिकल पर भड़की VHP, पूछा- क्या यह BJP का रूख है?

बता दें कि इस मामले 20 साल के एक संदिग्ध को पुलिस ने हिरासत में लिया है. राणा की टिप्पणियों को पार्टी प्रवक्ता शिवराय कुलकर्णी के नेतृत्व में स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रतिध्वनित किया, जिन्होंने यह भी दावा किया कि यह इस क्षेत्र में इस तरह का पांचवा मामला था.

निर्दलीय सांसद ने बुधवार को थाने में हंगामा करते हुए कहा कि वरिष्ठ निरीक्षक मनीष ठाकरे ने उनका फोन कॉल रिकॉर्ड किया था, जब उन्होंने उन्हें जांच पर अपडेट मांगने और उनके द्वारा हिरासत में लिए गए व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए फोन किया था.

ये भी पढ़ें -: गुलाम नबी आजाद बोले- आर्टिकल 370 ना मैं वापस दिला सकता हूं, ना कांग्रेस, ना पवार और ना ममता

ये भी पढ़ें -: ज्ञानवापी केस में वाराणसी कोर्ट के फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत जाएगा मुस्लिम पक्ष

ये भी पढ़ें -: स्कूटी रोके जाने पर पुलिसवालों पे भड़के BJP सांसद लक्ष्मीकांत वाजपेयी- मैं छाती पर पैर रखकर नाचता हूं


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-