Politics

नरसिंहानंद बोले- हिदुओं के दलाल मुसलमानों के आर्थिक बहिष्कार की बात करते हैं लेकिन जब इनकी सरकार…

20220813 154519 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती (Narsinhanand Saraswati) के राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा) को लेकर दिए एक बयान पर विवाद हो गया है. इसमें नरसिंहानंद ने केंद्र सरकार के ‘हर घर तिरंगा’ (Har Ghar Tiranga) अभियान का विरोध किया है. साथ ही उन्होंने हिंदुओं से तिरंगे का बहिष्कार करने और घर पर भगवा ध्वज लगाने की अपील की है.

एक वायरल वीडियो में नरसिंहानंद सरस्वती कह रहे हैं- तिरंगे के नाम पर एक बहुत बड़ा अभियान इस देश में चल रहा है और वो भारत की सत्तारूढ़ पार्टी करवा रही है. तिरंगे का सबसे बड़ा ऑर्डर बंगाल की कंपनी में एक सलाउद्दीन नाम के मुसलमान को दिया गया है. दुनिया के सबसे बड़े पाखंडी अगर कोई हैं तो वो हिंदू हैं. वो हिंदुओं के दलाल जो मुसलमानों के आर्थिक बहिष्कार की बात करते हैं. जब इनकी सरकार बन जाती है तो सरकारी ठेके भी मुसलमान को देते हैं. ये कितना बड़ा षडयंत्र है. हिंदुओं इस अभियान का बहिष्कार करो.

ये भी पढ़ें -: अमेरिका के न्यूयॉर्क में सलमान रुश्दी पर हमला, ईरान ने कही थी ये बात…

बयान में डासना देवी मंदिर के महंत ने आगे कहा- अगर जिंदा रहना है तो मुसलमान को पैसे देने वाले इस तिरंगा अभियान का बहिष्कार करो. घर में पुराना तिरंगा लगाओ, लेकिन सलाउद्दीन को एक भी पैसा मत दो. ये तुम्हारे पैसों पर मुसलमानों को अमीर बनाकर तुम्हारे बच्चों की हत्या का इंतजाम नहीं कर सकते.

किसी भी मुसलमान के पास जब हिंदू का पैसा जाता है तो वो जिहाद के लिए जकात देता है और वही जकात तुम्हारे और तुम्हारे बच्चों के कत्ल के लिए काम आती है. तिरंगे का बहिष्कार करो क्योंकि इस तिरंगे ने तुम्हे बर्बाद किया है. हिंदू के घर पर भगवा ध्वज होना चाहिए.

ये भी पढ़ें -: तेलंगाना BJP विधायक बोले- मुनव्वर फारूकी का शो हुआ तो हम आग लगा देंगे…

ये पहली बार नहीं है जब नरसिंहानंद किसी विवादित बयान को लेकर चर्चा में आए हों. उनका सार्वजनिक जीवन ऐसे ही बयानों से चर्चा में रहता है. इससे पहले वो महात्मा गांधी, मुस्लिम समुदाय और पैगंबर मोहम्मद को लेकर कई बार विवादित बयान दे चुके हैं.

यति नरसिंहानंद सरस्वती गाजियाबाद के शिव शक्ति धाम डासना मंदिर के महंत हैं. वो पूर्व बीजेपी सांसद बीएल शर्मा को अपना गुरू मानते हैं. उनको अखिल भारतीय संत परिषद का राष्ट्रीय संयोजक भी बताया जाता है. साथ ही उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने रूस में पढ़ाई की है और मॉस्को व लंदन समेत कई जगहों पर काम भी किया है. वो समाजवादी पार्टी से भी जुड़े रह चुके हैं.

ये भी पढ़ें -: RSS और मोहन भागवत ने बदली ट्विटर की डीपी, भगवा झंडा की जगह तिरंगा लगाया, लोग करने लगे थे ट्रोल

ये भी पढ़ें -: आमिर खान के खिलाफ शिकायत दर्ज, लगे है ये आरोप…

ये भी पढ़ें -: नरसिंहानंद का बयान- हर घर तिरंगा नहीं, भगवा ध्वज फहराया जाए


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-