India

जेल भेजे गए बिजनौर में माहौल बिगाड़ने की साजिश में जुटे शरारती तत्व, मजार तोड़ने का है आरोप

20220729 100914 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

बिजनौर में कांवड यात्रा के दौरान भगवा साफा बांधकर एक साथ तीन मजारों को तोड़ने की कोशिश में गिरफ्तार दो सगे भाइयों को पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है. बिजनौर की घटना में शामिल दोनों भाइयों का नाम कमाल और आदिल था. कुछ ऐसी ही घटना बीते अप्रैल महीने में अयोध्या में हुई थी. जब कुछ हिंदू लड़कों ने अयोध्या शहर कोतवाली में रमजान के मौके पर जालीदार टोपी पहन एक साथ पांच जगहों पर मस्जिद के बाहर धार्मिक पुस्तक फाड़ने और आपत्तिजनक मांस फेंकने का अपराध किया था.

पुलिस ने इस मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था, सभी आरोपी हिंदू थे. अयोध्या और बिजनौर की घटना में दोनों ही जगहों पर दूसरे धर्म के प्रतीक चिह्न पहनकर धार्मिक स्थलों को निशाना बनाते हुए सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ने, दंगा फैलाने की कोशिश की गई थी. अयोध्या और बिजनौर में गिरफ्तार आरोपियों पर किन धाराओं पर कार्रवाई हुई, यह जानना जरूरी है.

ये भी पढ़ें -: शाही ठाटबाट के साथ क्लास रूम में बच्चे से हाथ दबवा रही थी टीचर, हुवी सस्पेंड

हाल ही में बिजनौर के शेरकोट थाना क्षेत्र में भगवा रंग का साफा पहन कर दो सगे भाइयों मोहम्मद कमाल और आदिल ने तीन मजारों को तोड़कर धार्मिक भावनाओं को भड़काने की कोशिश की थी. पुलिस ने इस मामले में दोनों ही भाइयों पर आईपीसी की धारा 153A,436,427,452,295 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था.

153A समाज में धार्मिक वैमनस्यता फैलाना और आपसी सौहार्द्र व सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश करना., 436 घातक चीज से किसी के घर या निर्माण कार्य को नष्ट करना., 427 ₹50 से अधिक का नुकसान करना., 452 जबरन किसी के घर में घुसना., 295 किसी दूसरे धर्म के धार्मिक स्थल, पूजा घर को अपमानित करना.

ये भी पढ़ें -: संसद में भयानक बहस, सोनिया गांधी ने स्मृति ईरानी से कह दी ये बात…

ऐसी ही घटना अयोध्या में अप्रैल में हुई थी. 26 अप्रैल को अयोध्या में हिंदू लड़कों के द्वारा मस्जिद के बाहर धार्मिक पुस्तक को फाड़ने और आपत्तिजनक मांस फेंककर कर सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगाड़ने की घटना में आईपीसी की धारा 295, 295A, 120B और 34 के तहत केस दर्ज हुआ था. 295 2 साल की सजा और जुर्माना. 295A 3 साल की सजा व जुर्माना. 153A 3 साल की सजा. 436 10 साल की सजा. 427 2 साल की सजा. 452 7 साल की सजा.

फिलहाल बिजनौर मामले में पुलिस ने दोनों ही आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. इनसे प्रारंभिक पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर विवेचना की जा रही है. वहीं दूसरी तरफ अयोध्या में दर्ज हुए केस में सभी आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट भी लगा दिया गया है.

ये भी पढ़ें -: 8 साल में 22 करोड़ ने मांगी सरकारी नौकरी, मिली महज 7 लाख 22 हजार को

ये भी पढ़ें -: किन्नर महामंडलेश्वर का ऐलान- चाहे जान चली जाए 8 अगस्त को ज्ञानवापी में करूंगी रुद्राभिषेक


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-