India

जी न्यूज़ एंकर ने गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का किया रुख, बेंच ने लगाई वकील को फटकार…

20220705 112625 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

राहुल गांधी फर्जी वीडियो मामले में टीवी एंकर रोहित रंजन की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। जिसके बाद रोहित रंजन ने बुधवार यानी 6 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। इस मामले में वरिष्ठ वकील ने अवकाशकालीन (वेकेश्नल बेंच) के सामने अपनी बात रखी और बिना याचिका दायर कराए ही सुनवाई की तारीख लिस्ट करा ली। जिसके बाद बेंच वकील पर नाराज हो उठी।

दरअसल, टीवी एंकर रोहित रंजन की गिरफ्तारी के लिए छत्तीसगढ़ की रायपुर पुलिस मंगलवार को घर पहुंची थी। हालांकि, उससे पहले ही नोएडा पुलिस रोहित को उनके यहां दर्ज हुई शिकायत में पूछताछ के लिए लेकर चली गई। फिर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, हालांकि देर शाम उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया था। दो राज्यों की पुलिस की खींचतान के बीच रोहित रंजन ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का रुख किया।

ये भी पढ़ें -: मुख्तार अब्बास नकवी बोले- हुजूर के प्रति मेरा ईमान है, मुझे नूपुर शर्मा के बयान पर अफसोस हुआ

इस मामले में वरिष्ठ वकील सिद्धार्थ लूथरा ने न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति जेके माहेश्वरी की अवकाशकालीन पीठ के समक्ष तत्काल सुनवाई की मांग के साथ अपनी बात रखी। वरिष्ठ वकील लूथरा ने कहा कि टीवी एंकर ने एक शो के दौरान गलती की, जिसके लिए उनके द्वारा बाद में माफी भी मांगी गई थी। उन्होंने बेंच को यह भी बताया कि शो में प्रसारित हुए कंटेंट को लेकर एंकर के खिलाफ कई एफआईआर दर्ज की गई हैं।

वरिष्ठ वकील लूथरा ने बेंच को बताया कहा कि टीवी एंकर रोहित रंजन को छत्तीसगढ़ पुलिस गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है जबकि नोएडा पुलिस उन्हें कल गिरफ्तार कर जमानत पर रिहा कर चुकी है। पूरा मामला सुनने के बाद बेंच ने मामले को कल सूचीबद्ध करने पर सहमति जताई। मतलब यह कि बेंच ने सहमति दे दी थी कि कल इस मामले पर सुनवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें -: सरकार और ट्विटर आमने-सामने, ट्वीट्स हटाने के आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंची कंपनी

इस मामले में अगले दिन की सुनवाई के लिए बेंच ने आदेश पारित कर दिया। हैरानी भरी बात यह रही कि जब एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड ने बताया कि अभी इस मामले में याचिका दायर की जानी बाकी है तो बेंच नाराज हो उठी। जाहिर है कि बेंच ने मामले में कल सुनवाई के लिए आदेश दे दिया था। ऐसे में यह एक गंभीर मामला था, जिसमें बड़ी चूक हुई थी।

न्यायमूर्ति बनर्जी ने एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड को फटकारते हुए कहा कि “हमें बताया जाना चाहिए था कि अभी तक याचिका ही दायर नहीं की गई है। यह कोई आधार नहीं है। जस्टिस बनर्जी ने यह भी कहा कि आप एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड हैं और आपको अपने वकील को इस बात के लिए निर्देश देने चाहिए थे। अब अदालत इस मामले में बहुत कड़ा रुख अपनाने जा रही है।” हालांकि, इस मामले में बेंच द्वारा फटकार लगाए जाने के बाद वरिष्ठ वकील लूथरा ने भ्रम की स्थिति के लिए बेंच से माफी मांगी थी।

ये भी पढ़ें -: अजमेर दरगाह का खादिम सलमान चिश्‍ती गिरफ्तार,नुपुर शर्मा के ऊपर दिया था ये बयान…

ये भी पढ़ें -: अब कंगना रानौत बोली- ऋतिक रोशन से माफी नहीं मांगी तो जावेद अख़्तर ने मुझे धमकाया


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-