Politics

जिस आतंकी को पुलिस ने जम्मू में दबोचा वो निकला बीजेपी आईटी सेल का पूर्व प्रमुख

20220703 215351 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

जम्मू कश्मीर के रियासी जिले से पकड़े गए लश्कर के दो आतंकियों में से एक के बीजेपी के साथ संबंधों की बात सामने आई है. इंडिया टुडे से जुड़े सुनील भट्ट की रिपोर्ट के मुताबिक तालिब हुसैन एक समय बीजेपी में शामिल था. उसे जम्मू प्रांत के अल्पसंख्यक मोर्चे के आईटी और सोशल मीडिया सेल का प्रभारी भी बनाया गया था. इस मामले में बीजेपी ने सफाई दी है कि तालिब हुसैन केवल 18 दिनों के लिए पार्टी का सदस्य था.

मामले पर जम्मू-कश्मीर बीजेपी के प्रवक्ता रणबीर सिंह पठानिया ने कहा कि तालिब हुसैन शाह इसी साल 9 मई को भाजपा में शामिल हुआ और 27 मई को ही इस्तीफा दे दिया. उन्होंने तालिब हुसैन के बीजेपी ज्वॉइन करने को लेकर सफाई देते हुए कहा,

ये भी पढ़ें -: बिहार CM नीतीश कुमार ने किया मौन धारण, क्या एनडीए में सबकुछ ठीक नहीं?

‘ऑनलाइन मेम्बरशिप लेने का ये एक नुकसान है कि आप किसी का बैकग्राउंड चैक नहीं कर सकते. इस आतंकी की गिरफ्तारी के बाद ये एक बड़ा मुद्दा बना है. बीजेपी में आतंकियों की घुसपैठ कराने का यह नया तरीका है. इसके तहत कोई भी बीजेपी में शामिल होता है, पार्टी के अंदर अपनी पैठ बढ़ाता है और रेकी करता है. इस तरह से ही आतंकी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को मारने की साजिश रचते हैं. जम्मू-कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष रविंदर रैना जरूर आतंकवादियों के रडार पर रहे होंगे. ये राहत की बात है कि पुलिस ने इन्हें किसी भी बड़ी घटना को अंजाम देने से पहले पकड़ लिया.

बीजेपी अब तालिब हुसैन शाह के पार्टी के साथ संबंधों को लेकर सफाई दे रही है, लेकिन विपक्ष इस मुद्दे को लेकर उसे घेर रहा है. मामले को लेकर कांग्रेस नेता कीर्ति आजाद ने बीजेपी पर निशाना साधा. उन्होंने ट्वीट कर लिखा,

ये भी पढ़ें -: जी न्यूज एंकर और BJP सांसद राज्यवर्धन राठौर पर दर्ज हुई FIR, जानें पूरा मामला…

‘क्या पाकिस्तानी आतंकवादी से BJP की सांठगांट चल रही है ? जम्मू से पकड़े गए दो आरोपियों में से एक बीजेपी का आतंकवादी था. कन्हैयालाल के मामले में भी एक आरोपी बीजेपी में शामिल था. इस सबसे यह साफ है कि सांप्रदायिक तनाव को कौन भड़काने की कोशिश कर रहा है.

वहीं भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेता सीताराम येचुरी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘यह एक बहुत ही गंभीर मामला है और इसका जवाब सत्ताधारी बीजेपी की ओर से नहीं मिल सकता है. इसे लेकर राज्य निष्पक्ष कार्रवाई करें और बीजेपी के आतंकवादी संबंधों की जांच करें. चाहे वह जम्मू-कश्मीर में हो या राजस्थान में.

इससे पहले उदयपुर हत्याकांड के आरोपियों में से भी एक की बीजेपी नेताओं के साथ तस्वीरें आई थीं. जिसके बाद विपक्षी नेताओं ने बीजेपी को घेरा था.

ये भी पढ़ें -: भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ‘रावण’ गिरफ्तार, जानें क्यों हुवे गिरफ्तार…

ये भी पढ़ें -: ममता बनर्जी की सुरक्षा में सेंध, दीवार फांदकर सीएम आवास में घुसा था शख्स


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-