जयवीर शेरगिल बने राष्ट्रीय प्रवक्ता तो अमरिंदर सिंह और सुनील जाखड़ को मिली ये जिम्मेदारी…

जयवीर शेरगिल बने राष्ट्रीय प्रवक्ता तो अमरिंदर सिंह और सुनील जाखड़ को मिली ये जिम्मेदारी…
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

भारतीय जनता पार्टी ने शुक्रवार को पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, पूर्व कांग्रेसी नेता सुनील जाखड़ और पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को राष्ट्रीय कार्यसमिति का सदस्य नियुक्त किया। पार्टी की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई। कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए जयवीर शेरगिल को पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता नियुक्त किया गया है।

भाजपा की उत्तराखंड इकाई के अध्यक्ष रहे मदन कौशिक, पार्टी की छत्तीसगढ़ इकाई के पूर्व अध्यक्ष विष्णुदेव साय और भाजपा की पंजाब इकाई के पूर्व अध्यक्ष मनोरंजन कालिया को राष्ट्रीय कार्यसमिति का विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया गया है। पंजाब के ही राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी और अमनजोत कौर रामूवालिया को भी राष्ट्रीय कार्यसमिति का विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया गया है। इन संगठनात्मक नियुक्तियों में पंजाब पर खासा जोर दिया गया है।

ये भी पढ़ें -: परेश रावल के बयान पर बवाल, बोले- सस्ते गैस सिलिंडर का क्या करोगे, बंगालियों के लिए मछली पकाएंगे?

ये भी पढ़ें -: न्यायपालिका पर क़ानून मंत्री की टिप्पणी पर हरीश साल्वे बोले- उन्होंने लक्ष्मण रेखा पार कर ली है

ज्ञात हो कि कैप्टन अमरिंदर सिंह इसी साल सितंबर महीने में अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल हो गए थे। उन्होंने अपनी नवगठित पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस (पीएलसी) का भाजपा में विलय भी कर दिया था। भाजपा ने पीएलसी और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखदेव सिंह ढींढसा की अगुवाई वाले शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के साथ गठबंधन में पंजाब विधानसभा का पिछला चुनाव लड़ा था। हालांकि, पीएलसी का एक भी उम्मीदवार जीत हासिल नहीं कर पाया था और खुद सिंह को भी अपने गढ़ पटियाला शहर से शिकस्त मिली थी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ, वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी सहित भाजपा के कई वरिष्ठ नेता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य हैं। भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद अध्यक्ष जे पी नड्डा ने राष्ट्रीय कार्यसमिति गठित की थी। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करती है और संगठन के कामकाज की रूपरेखा तय करती है।

ये भी पढ़ें -: ऐसे हुई थी ‘रवीश की रिपोर्ट’ की शुरुआत, राधिका रॉय ने ईमेल पर रिपोर्टिंग का दिया था ऑफर…

ये भी पढ़ें -: इस्तीफ़ा देने के बाद बोले रवीश कुमार- मैं वो चिड़िया हूं, जिसका घोसला लेकर कोई और उड़ गया


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-