गोरखपुर विश्वविद्यालय में मिलीं बीयर की केन और शराब की बोतलें, ABVP से जुड़े कई छात्रों को नोटिस

गोरखपुर विश्वविद्यालय में मिलीं बीयर की केन और शराब की बोतलें, ABVP से जुड़े कई छात्रों को नोटिस
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

यूपी के गोरखपुर विश्वविद्यालय में बीयर और शराब की बोतलें मिली हैं. इसको लेकर छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन का घेराव कर दिया. वहीं विश्वविद्यालय प्रशासन ने कैंपस की छवि बिगाड़ने के लिए छात्रों को ही इसका जिम्मेदार ठहराया है. एबीवीपी संगठन के कई छात्रों को विश्वविद्यालय प्रशासन ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है. दरअसल, विश्वविद्यालय परिसर में यह घटना पहली बार नहीं हुई है. छात्रों का कहना है कि परिसर नशेड़ियों का अड्डा बनता जा रहा है. विश्वविद्यालय प्रसाशन मौन है, जो कि चिंता का विषय है. इस घटना पर छात्रों में आक्रोश व्याप्त है. अलग-अलग छात्र संगठनों ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

इस घटना पर एबीवीपी संगठन के कुलदीप तिवारी ने कहा कि शिक्षा के मंदिर में इस प्रकार की अनाधिकृत सामग्री का मिलना विश्वविद्यालय के प्रति अकर्मण्यता को प्रदर्शित करता है. ये छात्रों को किसी भी रूप में स्वीकार्य नहीं है. कुलदीप तिवारी ने कहा कि आखिर शराब की बोतलें विश्वविद्यालय परिसर में कैसे आईं? यह परिसर की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़ा सवाल है. कल कोई हथियार लेकर भी आ जाए तो जिम्मेदारी किसकी होगी? छात्रों को कारण बताओ नोटिस जारी करने पर धरना दिया था, फिर धरना देंगे.

समाजवादी छात्र सभा और अध्यक्ष पद के प्रत्याशी प्रतीक तिवारी ने कहा कि शिक्षा के मंदिर में बीयर की बोतलें मिल रही हैं. प्रशासन कर क्या रहा है. आए दिन रिजल्ट में गड़बड़ी कर रहे हैं. नियम तो हैं ही नहीं. छात्रों को परेशान किया जाता है. चुनाव तक कराया नहीं जा रहा है. इतना धरना प्रदर्शन किया, लेकिन पिछले एक महीने से कुलपति पत्र ही लिख रहे हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि सोमरस का पान कर कौन रहा है.

ये भी पढ़ें -: गुजरात में 45 हिंदुओं ने अपनाया बौद्ध धर्म, कलेक्टर बोले- जांच कराएंगे

वहीं इस घटना पर NSUI के महा नगर अध्यक्ष और छात्र नेता कहते हैं कि कल जिस प्रकार से गोरखपुर विश्वविद्यालय में बीयर की बोतलें पाई गई हैं, यह दुर्भाग्यपूर्ण है. विश्वविद्यालय नशाखोरी का अड्डा बनता जा रहा है. यह कहीं ना कहीं यह दर्शाता है कि नवनियुक्त मुख्य नियंता के संरक्षण में गोरखपुर विश्वविद्यालय की छवि धूमिल की जा रही है. निःसंदेह पूरी गलती मुख्य नियंता की होगी. वरिष्ठ छात्र नेता मनीष ओझा ने कहा कि विश्वविद्यालय में बीयर की बोतलें मिलना लापरवाही और उदासीनता को दर्शाता है. विश्वविद्यालय शिक्षा का मंदिर है, इसमें इस तरह की चीजों का पाया जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण एवं शर्मनाक है.

विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि कुछ विद्यार्थियों ने प्रशासनिक भवन के दक्षिणी गेट पर सुरक्षाकर्मी के रोकने के बावजूद अंदर प्रवेश किया. उन्होंने विश्वविद्यालय की छवि खराब करने के उद्देश्य से सड़क से बीयर की बोतलें इकट्ठा कर कुलपति कार्यालय के सामने डालकर अभद्र व्यवहार किया. इस कृत्य का संज्ञान लेते हुए विद्यार्थियों के विरुद्ध बताओ नोटिस जारी किया गया है.

नियंता व विशेष कार्यपालक दंडाधिकारी प्रो. गोपाल प्रसाद ने कहा कि इस अभद्रतापूर्ण आचरण के लिए पूरे मामले की एक सप्ताह में न्यायिक जांच के लिए कुलपति ने आदेश दिया है. इसमें जज की अध्यक्षता में पुलिस अधिकारी व नियंता सदस्य होंगे.

ये भी पढ़ें -: शिष्या से रे’प मामले में पूर्व गृह राज्यमंत्री चिन्मयानंद भगोड़ा घोषित, जारी हुवा गैर जमानती वारंट

ये भी पढ़ें -: ‘पठान’ पर बवाल के बीच आया शाहरुख खान का बयान, बोले- दुनिया चाहे कुछ भी कर ले, जितने भी…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-