Politics

गुजरात में 18 गांव के लोगों ने किया चुनाव का बहिष्कार, किया ये ऐलान…

20221113 184134 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

गुजरात में चुनाव नजदीक हैं। वोटिंग की तारीखों का ऐलान हो चुका है। राजनीतिक पार्टियों ने कम कस ली है। उम्मीदवारों एक नामों का ऐलान हो रहा है। उम्मीदवारों के नामों के ऐलान के साथ-साथ गुजरात के 18 गांवों ने चुनाव के बहिष्कार का ऐलान किया है। जिससे राजनीतिक दलों के साथ-साथ चुनाव आयोग की भी चिंता बढ़ गई है।

जानकारी के अनुसार, नवसारी विधानसभा के 18 गांवों के ग्रामीणों ने चुनाव के बहिष्कार का ऐलान किया है। इसके साथ ही उन्होंने ग्रामीणों ने गांव में बीजेपी, कांग्रेस व् अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं के गांव में आने और चुनाव प्रचार पर भी रोक लगा दी है। बाते जा रहा है कि ग्रामीण लंबे समय से अंचेली रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को रोके जाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन मांग पूरी न होने की वजह से ग्रामीणों ने यह ऐलान किया है।

ये भी पढ़ें -: फाइनल मैं हार पर बोले कप्तान बाबर आजम- दुर्भाग्य से शाहीन…

ये भी पढ़ें -: हिमाचल चुनाव: रामपुर में निजी गाड़ी में EVM ले जाने के आरोप में 6 कर्मचारी सस्पेंड

इसके साथ ही ग्रामीणों ने अंचेली स्टेशन सहित आसपास के स्टेशनों पर कई पोस्टर भी लगाए हैं। जिनपर लिखा हुआ है कि ‘ट्रेन नहीं तो वोट नहीं।’ इसके साथ ही उन पोस्टरों पर मांग न माने जाने पर चुनावों के बहिष्कार की भी बात कही गई है। ग्रामीण ट्रेन न रुकने की वजह से तमाम परेशानियों का सामना कर रहे हैं। एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए एक व्यक्ति को कम से कम 300 रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। जबकि पहले चंद रुपयों में ही काम चला जाता था।

ग्रामीणों के अनुसार, वर्ष 1966 से अंचेली रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रुक रही हैं। पहले एक पैसेंजर ट्रेन यहां रुकती थी, बाद में उनकी संख्या बढ़ती गई। हालांकि, कोरोना महामारी के समय इस स्टेशन पर ट्रेन रुकना बंद हो गईं। अब जब सब सामान्य हो गया है तब भी ट्रेनें यहां नहीं रुक रही हैं। ट्रेनें रोकने के लिए ग्रामीण जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारियों तक से गुहार लगा चुके हैं लेकिन ट्रेने रुकना शुरू नहीं हुईं। जिस वजह से अब ग्रामीणों ने चुनाव का बहिष्कार करने का ऐलान किया है।

ये भी पढ़ें -: हिंदुस्तानी भाऊ के बयान पर भड़की उर्फी जावेद, जेल भेजने की दी चेतावनी

ये भी पढ़ें -: टिकट नहीं मिलने से नाराज AAP के पूर्व पार्षद हाईटेंशन लाइन के खंबे पर चढ़े


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-