Politics

गुजरात में इसुदान गढ़वी बने आम आदमी पार्टी के CM उमीदवार, पत्रकारिता से सियासत मैं रखा कदम

20221104 163019 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

अहमदाबाद: गुजरात में आप आदमी पार्टी (आप) के सीएम फेस बने इसुदान गढ़वी (Isudan Gadhvi) पहले पत्रकार थे। गुजरात के देवभूमि द्वारका जिले के पिपलिया में जन्में इसुदान गढ़वी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई जाम खंभालिया (Khambhaliya) में पूरी की। कॉमर्स में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने 2005 में गुजरात विद्यापीठ से जर्नलिज्म की पढ़ाई की। इसके बाद दूरदर्शन से जुड़ गए और वहां पर एक शो करने लगे।

इसके बाद इसुदान ने पोरबंदर की एक स्थानीय चैनल में बतौर रिपोर्टर काम किया। 2015 में इसुदान अहमदाबाद आए और एक प्रमुख गुजराती चैनल (वी-टीवी) के एडीटर बन गए। जब इसुदान इस चैनल के एडीटर बने तो उनकी उम्र महज 32 साल थी। इसुदान ने ‘महामंथन’ नाम से एक शो की शुरुआत की। जिसमें वह एंकर की भूमिका में होते थे। इस शो में इसुदान ने आम लोगों और किसानों पर फोकस करना शुरु कर दिया।

महामंथन शो के कंटेंट और इसुदान के देसी बेबाक अंदाज ने उन्हे स्टार बना दिया। किसानों के मुद्दे उठाने के लिए सौराष्ट्र में काफी लोकप्रिय हो गए। खुद एक किसान परिवार में जन्में इसुदान के पिता खेराजभाई गढ़वी अभी भी खेती करते हैं। किसान परिवार से आने के चलते इसुदान को मुद्दों की समझ थी, इसका उन्होंने उपयोग अपनी पत्रकारिता में किया। इसके चलते महामंथन शो बेहद लोकप्रिय हो गया। गुजरात में लोग इस शो के लिए इंतजार करने लगे। इसुदान ने पत्रकार रहते हुए वापी, पोरबंदर, जामनगर, अहमदाबाद और गांधीनगर में काम किया।

ये भी पढ़ें -: गौतम अडानी की इस कंपनी के मुनाफे में बड़ी गिरावट, 73 फीसदी घटा

पिछले साल जब आदमी पार्टी ने गुजरात में संगठन विस्तार की कवायद शुरू की तो इसुदान (Isudan Gadhvi) पत्रकारिता को छोड़कर राजनीति में आ गए। इसुदान गढ़वी (Isudan Gadhvi) ने जून 2021 की शुरुआत में इस्तीफा दे दिया और कहा कि वे पत्रकारिता छोड़कर जनता के लिए काम करेंगे। इसके बाद उनके राजनीति में आने की अटकलें शुरू हो गईं। इसुदान गढ़वी ने फेसबुक पर लाइव जाकर कयासों का जवाब दिया, लेकिन यह नहीं बताया कि वे किसी पार्टी में शामिल होंगे या फिर नहीं।

जून महीने में ही जब अरविंद केजरीवाल गुजरात पहुंचे तो इसुदान आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए। आप से जुड़ने के बाद इसुदान ने कहा कि वह सालों से लोगों के सवाल उठाते रहे हैं, लेकिन एक पत्रकार की लक्ष्मण रेखा होती है। एक पत्रकार के रूप में आप लोगों के मुद्दों को उठा सकते हैं लेकिन संविधान के अनुसार, निर्णय लेने की शक्ति निर्वाचित राजनेताओं के पास है। लोगों के कल्याण की शक्ति नेताओं या अधिकारियों के पास है।

40 साल के इसुदान गढ़वी (Isudan Gadhvi) ओबीसी वर्ग से आते हैं। गुजरात में ओबीसी की हिस्सेदारी करीब 48 प्रतिशत है। गढ़वी समाज की गुजरात के राजकोट, जामनगर, कच्छ, बनासकांठा और जूनागढ़ जिलों में मौजूदगी है। आबादी के लिहाज से गढ़वी समाज की भागीदारी एक फीसदी से कम है। आदमी आदमी पार्टी के सीएम फेस बनने में इसुदान गढ़वी की लोकप्रियता और साफ छवि काम आई। आम आदमी पार्टी इसुदान गढ़वी को खंभालिया विधानसभा सीट से लड़ सकते हैं। इसी सीट पर अभी बीजेपी का कब्जा है। मेघजी कंजारिया यह से विधायक हैं। अगर इसुदान इस सीट से नहीं लड़ते हैं तो फिर वे राजकोट से चुनावी मैदान में उतर सकते हैं।

ये भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट में बोले विजय माल्या के वकील- उनका कुछ अता पता नहीं, केस लड़ने से इनकार किया

ये भी पढ़ें -: BJP नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने केंद्र सरकार को कोर्ट में घसीटा तो होना पड़ा हा‍ज‍िर, जानें पूरा मामला…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-