Politics

कोलकाता में BJP कार्यकर्ता पुलिस से भिड़े, हुवा लाठी चार्ज औऱ आंसू गैस का इस्तेमाल

20220913 220900 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में BJP के ‘नबन्ना’ मार्च के दौरान कई जगह जमकर बवाल हुआ है. कोलकाता और हावड़ा में पुलिस और BJP कार्यकर्ताओं के बीच झड़प की खबर है. पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को हटाने के लिए लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े. मार्च में शामिल होने जा रहे BJP विधायक सुवेंदु अधिकारी, सांसद लोकेट चटर्जी और राहुल सिन्हा समेत पार्टी के कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया.

आजतक से जुड़ीं सूर्याग्नि रॉय के मुताबिक बीजेपी के बड़े नेताओं को हिरासत में लिए जाने के बाद इन्हें कोलकाता के लाल बाजार स्थित पुलिस हेडक्वार्टर ले जाया गया है. कोलकाता में कई जगहों पर बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच भी भिड़ंत देखने को मिली है. दरअसल, बीजेपी ने मंगलवार, 13 सितंबर को कोलकाता से हावड़ा स्थित नबन्ना सचिवालय तक मार्च बुलाया था. पूरे राज्य से बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता कोलकाता और हावड़ा पहुंचे. ये मार्च ममता बनर्जी की सरकार के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर बुलाया गया.

ये भी पढ़ें -: ज्ञानवापी केस में वाराणसी कोर्ट के फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत जाएगा मुस्लिम पक्ष

मंगलवार को बीजेपी का मार्च का शुरू होने के बाद पुलिस ने हावड़ा से सचिवालय की ओर जाने वाली सभी सड़कों पर बैरिकेड लगा दिए. इसे लेकर पुलिस और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई. ईस्ट मिदनापुर में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ता एक-दूसरे से भिड़ गए. वहीं, तामलुक में भी भाजपा कार्यकर्ताओं की टीएमसी कार्यकर्ताओं से झड़प हो गई. मार्च में शामिल होने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को लेकर कोलकाता जा रही बसों को उत्तर 24 परगना में पुलिस ने रोक लिया. जिसके बाद यहां भी बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच नोकझोंक शुरू हो गई.

हिरासत में लिए जाने के बाद सुवेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी सरकार पर जमकर निशाना साधा. अधिकारी ने कहा – ममता बनर्जी के पास अपने ही लोगों का समर्थन नहीं है. इसलिए वे बंगाल में उत्तर कोरिया की तरह तानाशाही लागू कर रही हैं.

ये भी पढ़ें -: स्कूटी रोके जाने पर पुलिसवालों पे भड़के BJP सांसद लक्ष्मीकांत वाजपेयी- मैं छाती पर पैर रखकर नाचता हूं

आजतक की सूर्याग्नि रॉय के मुताबिक पार्टी के बड़े नेताओं की गिरफ्तारी के बाद भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा – ‘मुझे आश्चर्य है कि पश्चिम बंगाल में इतने पुलिसकर्मी कहां से आ गए. जब कोयले और मवेशियों की तस्करी हो रही थी, तो ये पुलिस कहां थी. जब अशांति होती है, जब बम विस्फोट होता है, और तब आप पुलिस को बुलाते हैं, तो जवाब मिलता है कि पुलिस बल नहीं है. जब कोई एफआईआर दर्ज कराने पहुंचता है तो भी पुलिस बल नहीं होता है.

दिलीप घोष ने दावा किया कि भाजपा के मार्च को रोकने के लिए बंगाल सरकार ने झारखंड और बिहार से भी पुलिस के जवान बुलाए हैं.

ये भी पढ़ें -: अक्षय कुमार के विज्ञापन पर दहेज को बढ़ावा देने का आरोप, भड़के लोग सुनाने लगे खरी-खोटी

ये भी पढ़ें -: नवनीत राणा के खिलाफ फिर से एक मामला दर्ज, लव जिहाद के आरोप से जुड़ा है मामला

ये भी पढ़ें -: कुतुब मीनार पर आज सुनवाई करेगी दिल्ली की साकेत कोर्ट, इस शख्स ने मांगा है मालिकाना हक़


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-