कॉलेज की छात्रा को धमकाते हुवे बोला ट्रैफिक पुलिसकर्मी- दोस्ती करो या 10 हजार का चालान कटाओ…

कॉलेज की छात्रा को धमकाते हुवे बोला ट्रैफिक पुलिसकर्मी- दोस्ती करो या 10 हजार का चालान कटाओ…
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

राजस्थान की यह कैसी एजुकेशन सिटी कोटा है, जहां पर बार-बार गर्ल्स स्टूडेंट से उनकी अस्मत मांगी जा रही है। पहले एक कॉलेज के प्रोफेसर ने गर्ल्स स्टूडेंट के पास करने के एवज में शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बनाया। यह मामला चल ही रहा था कि आईटीआई कॉलेज से घर जा रही स्कूटी सवार स्टूडेंट से ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने रोककर उससे फ्रेंडशिप करने की मांग की। साथ ही फ्रेंडशिप न करने पर 10 हजार रुपये का चालान काटने की धमकी दी।

छात्रा ने अपनी फ्रेंड के साथ जाकर इस मामले की शिकायत कोटा जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में की। इस मामले में एसपी केसर सिंह शेखावत ने जांच के आदेश देते हुए ट्रैफिक पुलिसकर्मी को लाइन हाजिर करने का आदेश दे दिया।

एसपी दफ्तर के बाहर मीडिया से बात करते हुए छात्रा ने बताया कि यह घटना उसके साथ शनिवार दोपहर को हुई। वह स्कूटी से गवर्नमेंट आईटीआई कॉलेज से अपने घर जा रही थी। स्कूटी पर उसने हेलमेट नहीं लगा रखा था। इसी दौरान जब वो सीएडी सर्किल पर पहुंची तो उसे कैलाश नाम के एक ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने रोक लिया। छात्रा के आरोप है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उसका बिना हेलमेट का चालान नहीं काटा और पूछा कि वह शादीशुदा है क्या? इस छात्रा ने कहा कि नहीं, उसकी शादी नहीं हुई है। वो कॉलेज से पढ़कर घर जा रही है।

ये भी पढ़ें -: तुनिशा की मौत पर पुलिस ने खारिज किया लव जिहाद का एंगल, कहा- ब्रेकअप की वजह से…

छात्रा का आरोप है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उसका जवाब सुनकर कहा कि वह उससे फ्रेंडशिप कर ले। छात्रा का आरोप है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उस पर दबाव बनाया कि अगर वह उसके घर चलती है तो वो उसे 10 हजार रुपये का मोबाइल फोन दिला देगा। उसके घर पर आज उसकी पत्नी और बच्चे नहीं है। अगर वो उसे साथ उसके घर नहीं गई तो वह उसका 10 हजार रुपये का चालान काटेगा।

छात्राओं ने यह भी आरोप लगाया है कि ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने उसे 4 बजे के बाद फिर मिलने के लिए बुलाया था। छात्रा ने कहा कि वो थोड़ी देर में आती है, इस पर ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने कहा कि 1 से 4 के बीच लंच होता है। 4 बजे के बाद वह मिलने के लिए वापस यहां आए। छात्रा ने कहा कि उसकी पुलिसकर्मी से कोई जान पहचान पहले से नहीं है। वह इसी रास्ते से आती-जाती है। कभी उसे बिना हेलमेट के किसी और पुलिसकर्मी ने नहीं रोका। लेकिन आज उसे कैलाश नाम के पुलिसकर्मी ने रोका और इस तरह का अभद्र व्यवहार किया। जैसे-तैसे ट्रैफिक पुलिसकर्मी से अपना पिंड छुड़ा कर घर पहुंची। इसके बाद शिकायत करने एसपी दफ्तर आई।

बता दें, राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के निलंबित एसोसिएट प्रोफेसर गिरीश परमार ने एक गर्ल्स स्टूडेंट को पास करने की एवज में उसकी अस्मत मांगी थी। मामले में प्रोफेसर परमार और उसका सहयोगी स्टूडेंट अर्पित अग्रवाल गिरफ्तार हुआ। पुलिस रिमांड पर चल रहा है। राष्ट्रीय महिला आयोग की 3 सदस्य टीम मामले की जांच पड़ताल कोटा में डेरा डालकर कर रही है। ऐसे में राह चलते पुलिसकर्मी के द्वारा छात्रों को रुकवाकर फ्रेंडशिप करने, घर चलने, मोबाइल दिलाने की बात समाज को शर्मसार करने वाली है।

ये भी पढ़ें -: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को अपने हाथों से पहनाई चप्पल, फ़ोटो वायरल

ये भी पढ़ें -: पठान कंट्रोवर्सी पर बोलीं आशा पारेख- हमारी सोच बहुत ही छोटी होती जा रही है…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-