India

कैंसर से पिता की मौत, मां ने कर्ज लेकर पढ़ाया, बेटे ने NEET Exam में किया कमाल

20221120 215445 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

बिहार के दरभंगा जिले के रहने वाले धर्मवीर कुमार यादव मेडिकल एंट्रेस एग्जाम NEET में 90वीं रैंक (OBC कैटेगिरी) लाकर सुर्खियों में हैं. उनकी ऑल इंडिया रैंक 426 है. धर्मवीर के पिता कपड़े की दुकान में काम करते थे. कैंसर के चलते उनका निधन हो गया था. मां ने कर्ज लेकर धर्मवीर को NEET Exam की तैयारी के लिए पटना भेजा था.

एक वीडियो में धर्मवीर अपने संघर्षों को बयां करते हुए कहते हैं कि Medical Entrance Examination (NEET) की तैयारी के दौरान ही कैंसर से उनके पिता का निधन हो गया था. बाद में मां को कर्ज लेकर पढ़ाई के लिए उन्हें आगे भेजना पड़ा. उन पर लोन चुकता करने का दबाव था.

धर्मवीर के पिता कपड़े की दुकान में काम करते थे. आमदनी कम थी और परिवार बड़ा था. इसलिए बचपन से ही उन्हें आर्थिक संकट से जूझना पड़ा. हालांकि, पिता ने धर्मवीर की पढ़ाई-लिखाई में कोई कसर नहीं छोड़ी. उनकी स्कूली शिक्षा दरभंगा में ही हुई है.

ये भी पढ़ें -: बुलडोजर ऐक्शन पर हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी, बोला- कल को आप ये कोर्टरूम भी खोद दोगे…

धर्मवीर 6 भाई-बहन हैं. सबसे बड़े भाई जन्म से पैरालाइज हैं. लेकिन ये मुसीबतें तब और बढ़ गईं जब पिता को कैंसर हो गया और बाद में उनका निधन हो गया. ये वो समय था जब धर्मवीर NEET की तैयारी में दिन-रात जुटे हुए थे. शुरू से उनमें डॉक्टर बनने का जुनून था.

पटना में रहने और अच्छे इंस्टीट्यूट में पढ़ने का खर्च बहुत अधिक था. जब ये बात धर्मवीर की मां को पता चली तो उन्होंने बेटे के सपने को साकार करने के लिए कर्ज ले लिया.

हालांकि, पहले दो अटेम्प्ट में धर्मवीर को मनमुताबिक सफलता नहीं मिल सकी. लेकिन साल 2022 में NEET-UG में धर्मवीर ने 680+ स्कोर कर अपने ड्रीम को अचीव कर लिया. उन्होंने अपनी कैटेगरी में 686 मार्क्स लाकर 90वीं रैंक सिक्योर की.

ये भी पढ़ें -: न्यूजीलैंड के खिलाफ आया सूर्यकुमार यादव का तूफ़ान, तोड़ दिया युवराज सिंह का ये रिकॉर्ड…

ये भी पढ़ें -: इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स को “पाकिस्तान जिंदाबाद” के नारे लगाने पर कॉलेज ने किया सस्पेंड, FIR दर्ज


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-