India

कुमार विश्वास को राहत: हाईकोर्ट ने लगाई 22 अगस्त तक गिरफ्तारी पर रोक, जानें क्या है मामला

20220705 102621 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ बयान मामले में दर्ज एफआईआर को रद्द करने की अपील पर सुनवाई करते हुए पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने कुमार विश्वास गिरफ्तारी पर 22 अगस्त तक बढ़ा दिया है। कुमार विश्वास ने याचिका दाखिल कर बताया कि उनके खिलाफ 12 अप्रैल को रोपड़ में एफआईआर दर्ज की गई थी।

यह एफआईआर न सिर्फ कानूनी प्रक्रिया का उल्लंघन कर दर्ज की गई है बल्कि यह राजनीतिक रंजिश का नतीजा है। इस एफआईआर को अपने विरोधियों से प्रतिशोध लेने का जरिया बनाया गया है। इन दलीलों के साथ ही एफआईआर को रद्द करने की कुमार विश्वास ने हाईकोर्ट से मांग की है।

ये भी पढ़ें -: मोहम्मद आरिफ खान बोले- जो शरीयत में विश्वास करते हैं, वह उस देश में चले जाएं जहां यह लागू है

कुमार विश्वास ने कहा कि 12 फरवरी को उनके इंटरव्यू को आधार बनाकर रोपड़ में एफआईआर दर्ज की गई जबकि यह इंटरव्यू उन्होंने मुंबई में दिया था। इस एफआईआर को दर्ज करने में पुलिस ने काफी तेजी दिखाई क्योंकि शिकायत 12 अप्रैल को शाम छह बजकर 10 मिनट पर दी गई और उसी समय शाम 7 बजकर 50 मिनट पर एफआईआर दर्ज कर दी गई।

इसके बाद एसआईटी उनके दिल्ली के आवास पर पहुंची लेकिन वह घर पर नहीं थे। याची ने कहा कि उसे इस एफआईआर की कॉपी तक नहीं दी गई। इस एफआईआर की कॉपी पुलिस ने अपनी वेबसाइट पर अपलोड ही नहीं की थी जबकि उसके पहले और बाद की अन्य एफआईआर वेबसाइट पर अपलोड थीं।

ये भी पढ़ें -: न्यूज एंकर बोले- दिग्विजय सिंह के पिता सावरकर को हीरो मानते थे, दिग्विजय बोले- झूठों के बादशाह…

21 अप्रैल को उन्होंने रूपनगर के एसएसपी से एफआईआर की कॉपी मांगी थी जो 22 अप्रैल दोपहर तीन बज कर 20 मिनट में मिली। कुमार विश्वास ने कहा कि पंजाब में आप की सरकार बनने के बाद से लगातार केजरीवाल विरोधियों के खिलाफ मामले दर्ज किए जा रहे हैं। यह एफआईआर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन होने के साथ ही राजनीतिक रंजिश के का नजीता है। ऐसे में एफआईआर रद्द करने की याचिका में मांग की गई है।

ये भी पढ़ें -: जिस विधायक ने रो-रोकर उद्धव ठाकरे के लिए समर्थन मांगा, वह भी शिंदे गुट में हुवा शामिल

ये भी पढ़ें -: संजय राउत के ख़िलाफ़ जारी हुवा वारंट, शिकायकर्ता ने लगाए है ये आरोप…

ये भी पढ़ें -: सहारनपुर हिंसा: थाने में पीटे गए लड़कों के खिलाफ नहीं मिले सबूत, कोर्ट ने रिहा किया


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-