कवयित्री बोली- चीन 1962 वाली गलती न करे, इस बार नेहरू जी नहीं हैं, लोगों ने कर दिया ट्रोल

कवयित्री बोली- चीन 1962 वाली गलती न करे, इस बार नेहरू जी नहीं हैं, लोगों ने कर दिया ट्रोल
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में भारत और चीन (India vs China) के सैनिकों के बीच झड़प हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 9 दिसंबर 2022 को, पीएलए (PLA) के सैनिकों के साथ तवांग सेक्टर (Tawang Sector) में एलएसी के पास झड़प हुई है। इस घटना को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर कई तरह के सवाल उठाए हैं। सोशल मीडिया पर भी लोग कई तरह के कमेंट कर रहे हैं। इस बीच कवयित्री अनामिका जैन अंबर (Anamika Jain Amber) ने इस विषय पर एक ट्वीट किया तो लोगों ने उन्हें ट्रोल (Troll) कर दिया।

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाली कवयित्री अनामिका जैन अंबर ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा,”चीन 1962 वाली गलती न करे, इस बार सिंहासन पर नेहरू जी नहीं हैं।” अनामिका जैन अंबर द्वारा किये गए ट्वीट पर सोशल मीडिया यूज़र्स उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। कुछ लोगों ने उन्हें सरकारी कवियत्री तक लिखा है।

सपा नेत्री नेहा यादव ने कमेंट किया,”ये लो दरबारी कवि जी माफिवीरों के समर्थन में हाज़िर हो गईं। ये 2014 के बाद आजद हुए लोग हैं उसके पहले लीज पर थे। खाली राग दरबारी से हिंदुस्तान की आजादी का ज्ञान नहीं आता इसके लिए इतिहास की कुर्बानी समझना पड़ता है। कहीं चुपके से प्रधानसेवक ने चीन को चिट्ठी तो नहीं लिख दी?

ये भी पढ़ें -: तवांग में भारत-चीन सैनिकों के बीच हुई झड़प पर आया अमित शाह का बयान, कही ये बात…

सपा नेता अमीक ने लिखा कि पूरे पूरे गांव बसा दे रहा है चीन क्योंकि इस बार नेहरू जी नही लाल आंखों की निगरानी है। कांग्रेस नेता अखिलेश ने कमेंट किया – चीन घर में घुस गया और आपको मोदी जी की चापलूसी करने से फुरसत नहीं है। मैं जानता हूं की आपकी दुकान इसी से चलती है परंतु ये देश आप जैसे मोदी गुलामों से नही चलता है।

पत्रकार संजय सिंह ने लिखा कि पर गलती तो कर रहा है सरकारी कवि जी। आप सरकार के गुणगान में बिजी होंगी इसलिये आपको पता नहीं चला होगा कि गलवान घाटी में हमारे बहुत सैनिक मार दिये उसने। @mayank_sxn नाम के एक ट्विटर हैंडल से लिखा गया कि नेहरू जी होते तो हमारे 20 सैनिकों की शहादत पर “ना कोई घुसा है, ना कोई घुस आया है” जैसा कायराना बयान नहीं देते। और सरकारी कवि, दरबार में सिर झुकाने से मौक़ा मिले तो सही इतिहास पढ़ना, 1962 में हमारी बहादुर सेना ने चीन की सेना को पीछे करवा दिया था, बाद में चीन ने धोखे से हमला किया।

भारत चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प पर संसद में हंगामा चल रहा है। इस बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा,”इस सदन को अरुणाचल में तवांग में हुई घटना के बारे में अवगत कराना चाहता हूं। 9 दिसंबर 2022 को PLA जवानों ने यथास्थिति को बदलने की कोशिश की। हमारी सेना ने चीनी सैनिकों को पीछे खदेड़ दिया। इस घटना में हमारे न किसी सैनिक का निधन हुआ है और न ही किसी भारतीय सैनिक को गंभीर चोट आई है।

ये भी पढ़ें -: दिन में प्रोफेसर, रात में कुली बनता है ये शख्स? वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

ये भी पढ़ें -: PM मोदी पर विवादित बयान  देने वाले कांग्रेस के पूर्व विधायक राजा पटेरिया हुवे गिरफ्तार, कही थी ये बात…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-