India

उदयपुर कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध, कांग्रेस ने लगाए आरोप

20220702 194509 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल हत्याकांड में कांग्रेस ने खुलकर बीजेपी पर हमला बोला है. कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा है कि कन्हैया लाल के हत्यारोपी रियाज अत्तारी के संबंध बीजेपी नेता गुलाबचंद्र कटारिया समेत अन्य से थे. उन्होंने ये भी कहा है कि रियाज बीजेपी की राजस्थान अल्पसंख्यक इकाई की बैठकों में शामिल होता था. इसकी तस्वीरें भी अब दुनियाभर के सामने हैं.

बता दें कि एक दिन पहले ही आजतक की स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम ने रियाज अत्तारी को लेकर एक्सक्लूसिव खुलासा किया था. आजतक की एसआईटी उस शख्स (इरशाद चैनवाला) तक भी पहुंची, जिसकी मदद से रियाज बीजेपी के कार्यक्रमों में शामिल होता था. इरशाद चैनवाला राजस्थान में बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चे में प्रदेश कार्यकारिणी का सदस्य है. करीब तीन साल पहले एक तस्वीर ली गई थी, जिसमें रियाज के साथ इरशाद नजर आता है.शनिवार को कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी नेता पवन खेड़ा ने कहा कि उदयपुर में हुई वीभत्स घटना के संबंध में कल एक मीडिया ग्रुप ने एक बेहद सनसनीखेज खुलासा किया है. इस खुलासे में उदयपुर में कन्हैयालाल की जघन्य हत्या का मुख्य आरोपी रियाज अत्तारी के साथ भाजपा के दो नेताओं (इरशाद चैनवाला और मोहम्मद ताहिर) के संबंधों की तस्वीरें जगजाहिर हैं.

ये भी पढ़ें -: चीफ़ जस्टिस कड़े तेवर दिखाकर बोले- राजनीतिक दल समझते हैं कि न्यायपालिका उनके फैसलों का समर्थन करेगी

उन्होंने कहा कि इसी खुलासे में यह बात भी सामने आई है कि मुख्य आरोपी रियाज अत्तारी राजस्थान बीजेपी के कद्दावर नेता और राज्य के पूर्व गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया के कार्यक्रमों में अक्सर भाग लेता था. सिर्फ इतना ही नहीं, मुख्य आरोपी रियाज की बीजेपी अल्पसंख्यक इकाई की बैठकों में शामिल होने की तस्वीरें भी अब दुनियाभर के सामने हैं. उन्होंने कहा कि फेसबुक पर बीजेपी नेता इरशाद चैनवाला के 30 नवंबर 2018 और मोहम्मद ताहिर के 3 फरवरी 2019, 27 अक्टूबर 2019, 10 अगस्त 2021, 28 नवंबर 2019 और अन्य पोस्टों के जरिए यह स्पष्ट है कि उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी रियाज अत्तारी ना सिर्फ बीजेपी नेताओं का करीबी था, बल्कि सक्रिय सदस्य भी था. उन्होंने कहा कि इन तस्वीरों और खुलासों के बाद कुछ बेहद महत्वपूर्ण सवाल उठ रहे हैं. इनमें…

1. क्या बीजेपी और उसके नेता पूरे देश में धार्मिक उन्माद का वातावरण बनाने का प्रयास कर रहें हैं? 2. क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह अब भी बीजेपी नेताओं द्वारा धार्मिक उन्माद को फैलाने की कोशिशों पर चुप्पी साधे रहेंगे? 3. क्या बीजेपी अपने प्रवक्ताओं और नेताओं के जरिए पूरे देश में आग लगाकर ध्रुवीकरण का प्रयास कर रही है? 4. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस केस NIA को ट्रांसफर करने का स्वागत किया, पर नए तथ्य आने पर यह सवाल उठ रहा है कि क्या केंद्र की बीजेपी सरकार ने इन्हीं कारणों से इस घटना को जल्दबाजी में NIA को ट्रांसफर करने का फैसला किया है?

ये भी पढ़ें -: अब नूपुर शर्मा बोली- मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर और एडिट करके शेयर किया गया

आज तक से बातचीत में पवन खेड़ा ने कहा कि हमें जवाब चाहिए, आपकी स्टोरी (आजतक स्टिंग ऑपरेशन) देखने के बाद की गई हमारी जांच से पता चलता है कि ये लोग भाजपा के सदस्य थे. यह दिखाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि रियाज बीजेपी का सदस्य था. जो उसके बारे में जानते थे, उन्होंने एंट्री कैसे दे दी? लिट्टे पर कांग्रेस की घुसपैठ के संबंध में खेड़ा ने कहा कि अतीत में जानने से पहले बीजेपी, पीएम और गृह मंत्री से पूछें कि इन हत्यारों का बीजेपी से क्या संबंध था.

वहीं, बीजेपी नेता गुलाब चंद्र कटारिया ने सफाई दी है. कटारिया ने कहा कि बीजेपी के अल्पसंख्यक विंग के कार्यक्रमों में शामिल होना कोई अपराध नहीं है. यह मेरे नियंत्रण में नहीं है कि इस तरह के आयोजनों में कौन मेरे साथ फोटो खिंचवाता है. फिर भी अगर कोई सोचता है कि मैंने अपराध किया है तो वे मेरे खिलाफ आपराधिक केस दर्ज करवा सकते हैं. फोटो क्लिक कराना अपराध है तो कानून के अनुसार कार्रवाई करवा सकते हैं.

ये भी पढ़ें -: सुधीर चौधरी ने ज़ी न्यूज़ से दिया इस्तीफा तो पूर्व IAS बोले – अब 2000 के नोट में कौन खोजेगा चिप

ये भी पढ़ें -: KCR की BJP को चुनौती- तेलंगाना सरकार को गिराकर दिखाओ, मैं केंद्र में आपकी सरकार गिरा दूंगा


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-