India

अडानी ने अमीरी में बिल गेट्स को छोड़ा पीछे। भारत में अत्यंत गरीबों की संख्या नाइजीरिया से भी हुई ज्यादा

20220725 083059 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

अडाणी समूह के भारतीय उद्योगपति गौतम अडानी ने संपत्ति के मामले में माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स को पीछे छोड़ दिया। इसके साथ ही वह दुनिया के चौथे सबसे अमीर आदमी बन गए। पिछले 7 सालों में अडानी की संपत्ति में बेतहाशा वृद्धि हुई है। उन्हें कई बड़े सरकारी कॉन्ट्रैक्ट और बड़े-बड़े एयरपोर्ट और बंदरगाह मिले हैं, जिनका संचालन अडानी समूह कर रहा है।

पहले ये सभी सरकारी कंट्रोल में थे। उधर अत्यंत गरीबों की संख्या के मामले में भारत नजरिया से भी आगे निकल चुका है। यानी कि भारत में एक्सट्रीम पुअर कैटेगरी के लोगों की संख्या नाइजीरिया से भी ज्यादा है।

ये भी पढ़ें -: कांवड़ पर थूकने के बाद बवाल, कांवड़ियों ने हाइवे को किया जाम, पुलिस चौकी में तोड़फोड़

फॉर्ब्स के रियल टाइम बिलेनियर लिस्ट के अनुसार ये जानकारी दी गई है। 60 वर्षीय बिजनेस टाइकून की नेट वर्थ गुरुवार को 115.5 बिलियन डॉलर हो गई, जिस कारण 104.6 डॉलर नेट वर्थ वाले बिल गेट्स लिस्ट में नीचे खिसक गए। बता दें कि 90 बिलियन डॉलर नेट वोर्थ के साथ मुकेश अंबानी उक्त लिस्ट में दसवें स्थान पर हैं।

इधर, टेस्ला और स्पेसएक्स के संस्थापक एलन मस्क, जो फिलहाल ट्विटर खरीदने की अपनी एक डील को तोड़ने के बाद विवादों में घिरे हैं, 235.8 बिलियन डॉलर नेट वोर्थ के के साथ सूची में सबसे ऊपर हैं।

ये भी पढ़ें -: अक्षय कुमार ने निकाली कई सालों की भड़ास, बोले- ठीक है बुलाते रहो मुझे कनाडा कुमार

वर्ल्ड पॉवर्टी क्लॉक(WPC) की रिपोर्ट के अनुसार
अत्यंत गरीबों की संख्या के मामले में भारत नाइजीरिया को पीछे छोड़ चुका है। भारत के 8.3 करोड़ आबादी एक्सट्रीम पुअर की कैटेगरी में है जो $2 प्रतिदिन से कम में गुजारा करती है। वही नाइजीरिया में 7 करोड़ की आबादी एक्सट्रीम पुअर की कैटेगरी में है।

इसके पहले 2018 में नाइजीरिया ने भारत को इस मामले में पिछे छोड़ दिया था। हालांकि बाद में वहां गरीबों की संख्या थोड़ी कम हुई जबकि भारत में गरीबों की संख्या बढ़ी है।

ये भी पढ़ें -: ‘शराब, बच्चे, 500 कंडोम’, पुलिस ने कही मेघालय BJP उपाध्यक्ष के यहां सेक्स रैकेट भंडाफोड़ की बात

ये भी पढ़ें -: चीफ़ जस्टिस ने कही कंगारू कोर्ट वाली बात तो कानून मंत्री बोले- दुनिया की कोई भी न्यायपालिका…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-